इटौजा में तस्करी की फिराक में जिरौनी तालाब में सात सौ कछुओं की मौत

- in क्राइम, लखनऊ
Demo pic

लखनऊ। इटौजा थाना क्षेत्र के उसरना गांव में स्थित जिरौनी तालाब में सैकड़ों कछुओं की मौत हो गई। देखते ही देखते मरे हुए कछुए पानी में तैरने लगे। ग्रामीणों ने पुलिस को बताया कि सिंधाड़े की आड़ में कछुओं को तस्करी की जा रही है। तलाब में नशीली दवाई डालकर कछुए पकड़े जाते है। दवाई की मात्रा अधिक होने पर कछुए मरने लगे। यही वजह है कि तलाब में सिघाड़े की फसल के एवज में स्थानीय दबंग कछुआ पकड़कर तस्करी कर रहे है।

Image result for कछुओं की मौत

ग्रामीणों की सूचना पर इटौजा पुलिस आकर महज खानापूर्ति करके चली गई। उसरना गाव का जिरौनी तालाब लगभग दस एंकड में फैला है। जिसके गहरे पानी में सैकडों की तदात में कछए थे। बीते बुधवार को अचानक तलाब में कछुओं की मौत हो गई। यह सिलसिला गुरुवार को भी चलता रहा। शुक्रवार को मरे हुए कछुओं के सड़ने से तालाब के किनारे रह रहे ग्रामीणों को बदबू का सामना करना पड़ा। ग्रामीणों की शिकायत पर बीकेटी क्षेत्र के कार्यवाहक रेंजर ने बताया कि संरक्षित जीव को मारने अथवा उसकी तस्करी करने वालों की पहचान की जा रही है। जल्द ही उन लोगों पर कार्रवाई होगी जिनके कारण कछुओं की मौत हुई।

पढे:- लखनऊ : हनुमान मंदिर के महंत को सरेआम मारी गोली 

नो पार्किंग से कार उठाने पर हंगामा

Related image

लखनऊ। राजभवन के सामने नो पार्किंग जोन में खड़ी गाड़ी उठाना ट्रैफिक पुलिस को महंगा पड़ गया। कार स्वामी ट्रैफिक पुलिस और नगर निगम कर्मचारियों से भिड़ गया। बिना जुर्माने के गाड़ी देने पर अड़ गया। काफी समझाने के बाद उसने शमन शुल्क अदा किया और कार लेकर चला गया।

पार्क रोड स्थित नगर निगम बूथ के क्रेन प्रभारी दिग्विजय सिंह के मुताबिक, राजभवन के गेट नम्बर एक पर कार खड़ी थी। क्रेन की मदद से कार को बूथ पर लाया गया। इसी बीच कार मालिक भी यहां पहुंच गया। उसने बिना शमन शुल्क दिए ही कार को लेना चाहा। नगर निगम कर्मचारियों ने बिना जुर्माना दिए कार देने से मना कर दिया। इस पर वह आगबबूला हो गया। कर्मचारियों ने उसे समझा-बुझाकर शांत किया।

loading...
Loading...

You may also like

उत्तर प्रदेश :युवक ने जहर खाकर लगाई सीएम से न्याय की गुहार

लखनऊ।  सरकार के लाख दावे करने के बाद