ख़ास खबरराष्ट्रीयशिक्षा

दिल्ली विश्वविद्यालय में पुनर्मूल्यांकन के लिए कहा तो दिखाया अनुपस्थित

नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय के परीक्षा परिणाम पर छात्रों ने आपत्ति जाहिर की है। जिन छात्रों ने पुनर्मूल्यांकन के लिए आवेदन किया था उनमें से कई छात्रों को अनुपस्थित दिखा दिया गया है। वहीं, बुधवार को जारी अर्थशास्त्र ऑनर्स के परीक्षा परिणाम में अधिकतर छात्रों के अंक काफी कम हैं।

डीयू के परीक्षा परिणाम को लेकर एनएसयूआई ने भी विरोध जताया है। एनएसयूआई ने डीयू प्रशासन से परिणामों में विसंगतियों के खिलाफ सख्त कदम उठाने की मांग की है। लॉ के छात्र वैभव यादव ने भी डीयू के डीन एग्जामिनेशन को पत्र लिखकर लिखकर शिकायत की है।

एनएसयूआई के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी लोकेश चुघ का कहना है कि गार्गी कॉलेज की एक छात्रा को 2 सीजीपीए मिला है। इस महामारी की स्थिति में डीयू के सभी कॉलेजों के सैकड़ों छात्र दुविधा में हैं। बीए अंग्रेजी (ऑनर्स) और बीए इकोनॉमिक्स (ऑनर्स) छात्रों को बड़े पैमाने पर असफलता मिली है। कई छात्र एक से अधिक विषयों में असफल रहे।

छात्रों के पास पुनर्मूल्यांकन का विकल्प है, लेकिन प्रत्येक विषय के लिए उन्हें 1000 रुपये का भुगतान करना होगा। अगर मूल्यांकन में दोष है तो इसके लिए एक हजार का रुपये पुनर्मूल्यांकन के लिए छात्र क्यों दें? छात्रों की शिकायत है कि मूल्यांकन किए गए परिणामों में भी उन्हें अनुपस्थित के रूप में चिह्नित किया गया है। कुछ शिक्षकों का भी मानना है कि मूल्यांकन प्रक्रिया के साथ कुछ चीजें सही नहीं हैं।

loading...
Loading...