ग्रामीण क्षेत्रों के परीक्षा केंद्रों पर सिद्धार्थ विश्वविद्यालय नकल रोकने में नाकाम

नकल रोकने में नाकाम सिद्धार्थ विश्वविद्यालय
Please Share This News To Other Peoples....

सिद्धार्थनगर। सिद्धार्थ विश्वविद्यालय कपिलवस्तु सिद्धार्थ नगर की संचालित हो रही मुख्य परीक्षा में जनपद के ग्रामीण क्षेत्रो में स्थित जिन महाविद्यालयो को परीक्षा केन्द्र बनाया गया है उनमें से कुछ परीक्षा केंद्रों पर नकल माफियाओं ने परीक्षा की सुचिता को भंग कर दिया है। यही नही नकल विहीन परीक्षा को सम्पन्न कराने के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा किया गया दावा भी खोखला साबित हो रहा है क्योंकि कुछ ऐसे महाविद्यालयो को भी परीक्षा केंद्र बना दिया गया है जिनपर पूर्व में नकल कराने के आरोप भी लग चुके है। यही नही विश्वविद्यालय द्वारा बनाये गए सचल दस्ते भी नकल रोकने में नाकाम साबित हो रहे है।

नकल रोकने में नाकाम, माफिया चला रहे अपनी दूकान

सचल दस्ते पर निगरानी के लिए विश्वविद्यालय द्वारा इस बार केंद्रीय टीम की गठन भी नही की गई है। जिससे परीक्षाकेन्द्रों की चांदी हो गई है।कुछ अभिभावकों ने नाम न छापने के शर्त पर बताया कि ग्रामीण क्षेत्रो के महाविद्यालयो द्वारा नकल के नाम पर आठ से दस हजार रुपये की अवैध वसूली भी की जा रही है।

सीसी टीवी कैमरा लगने के बावजूद भी कुछ केन्द्राध्यक्ष बिना किसी डर नकल कराने में सफल है।और विश्वविद्यालय प्रशाषन हाथ पर हाथ धरे बैठा हुआ है।यही नही गठित सचल दस्ता भी विश्वविद्यालय प्रशाषन को अपनी रिपोर्ट सौंपने में असफल है और नकल रोकने में भी असफल है।जिससे विश्वविद्यालय प्रशासन परीक्षा सम्पन्न होने के बाद का सूचना देने में असफल साबित हो रहा है।

इस सम्बंध में कुल सचिव बीएन सिंह ने बताया कि जो दो महाविद्यालय डिवार थे उन्हें परीक्षा केंद्र नही बनाया गया है।जिन पर नकल का आरोप लगा था लेकिन जांच में सिद्ध नही हुआ तो उन्हें परीक्षाकेन्द्र बनाया गया है और नकल विहीन परीक्षा सम्पन्न कराने के लिए सचल दस्ता टीम अपने-अपने क्षेत्रों में कार्य कर रही है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *