तो क्या पूर्वांचल के सफेदपोश ने 10 करोड़ में दी थी मुन्ना बजरंगी की सुपारी

मुन्ना बजरंगी मुन्ना बजरंगी

बागपत। माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की हत्या के मामले में एक और सनसनीखेज तथ्य सामने आया है। पुलिस जांच में जो बात सामने आई उससे पुलिस अंदाजा लगा रही है कि मुन्ना बजरंगी की हत्या का कनेक्शन पूर्वांचल से है। कुख्यात सुनील राठी तो बस एक मोहरा है। पुलिस जांच के अनुसार 10 करोड़ रुपये की सुपारी लेकर बजरंगी को मौत के घाट उतारा गया है।

ये भी पढ़ें:-मुन्ना बजरंगी हत्याकांड में जेल में बंद चश्मदीद कैदी का सनसनीखेज खुलासा 

जौनपुर की एक बैंक से सात करोड़ रुपये का हुआ ट्रांजेक्शन

जांच रिपोर्ट की मानें तो, जेल में बजरंगी की हत्या से एक दिन पहले जौनपुर के एक बैंक से करीब सात करोड़ रुपयों का ट्रांजेक्शन हुआ है। तीन करोड़ रुपये वहीं के दूसरे बैंक से निकाले गए। इसलिए 10 करोड़ की सुपारी का जिक्र जांच में सामने आया है। पुलिस बैंक खातों की डिटेल निकलवा रही है।

एक सफेदपोश के आड़े आ रहा था मुन्ना बजरंगी

आपको बता दें कि मुन्ना बजरंगी 2019 में जौनपुर लोकसभा सीट पर चुनाव लडऩे की तैयारी कर रहा था, जो पूर्वाचल के एक सफेदपोश को रास नहीं आया क्योंकी वह इस नेता के आड़े आ रहा था। वहीं एक बाहुबली से उसकी वर्चस्व की लड़ाई भी चल रही थी। इसी जिद में वह बाहुबली को टक्कर देना चाहता था। बजरंगी की पत्नी सीमा सिंह बाहुबली पर हत्या कराने का आरोप भी लगा चुकी है।

ये भी पढ़ें:-पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बड़ा खुलासा, प्लानिंग के तहत हुई मुन्ना बजरंगी की हत्या

फोरेंसिक जांच में पता चलेगा पिस्टल देशी है या विदेशी

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जिस सुनील राठी ने बजरंगी की हत्या की बात कबूली है वह पूर्वांचल में अपना साम्राज्य स्थापित करना चाहता है। जांच रिपोर्ट में यह बात सामने आ रही है कि सुनील के पास काफी समय से उसकी अपनी पिस्टल थी। जब वह जेल में आया तो पिस्टल लेकर आया था। यह देशी है या विदेशी, फॉरेंसिक रिपोर्ट के बाद ही पता चलेगा।

जेल अधीक्षक बोले, अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी

इधर जब इस मामले में जेल अधीक्षक (अतिरिक्त चार्ज) विपिन कुमार मिश्रा से बात की गयी तो उनका कहना है कि अभी इस मामले में कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। विवेचक इसे सुलझाने में लगे हैं। जल्दी ही मामले की गुत्थी सुलझ जाएगी।

आईजी  बोले, हर बिंदु पर हो रही जांच

रामकुमार, आईजी-मेरठ  का कहना है कि फिलहाल पुलिस हर बिंदु पर जांच कर रही है। सीमा सिंह के आरोप पर भी गौर किया जा रहा है। उम्मीद है, जल्द घटना का राजफाश हो जाएगा। पुलिस बेहद नजदीक पहुंच चुकी है।

ये भी पढ़ें:-बीजेपी विधायक का बड़ा खुलासा, इसने कराई मुन्ना बजरंगी की हत्या

कुछ सवाल अभी भी हैं अनसुलझे

हालांकि माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की हत्या में एक पिस्टल का प्रयोग हुआ या दो का, अभी यह पता नहीं चल पाया है। यह सवाल इसलिए उठ रहा है, क्योंकि पुलिस को गटर से जो पिस्टल मिली है, वह .32 एमएम की है, इस पिस्टल की मैगजीन में न्यूनतम आठ गोली आती हैं। ऐसे में अगर आठ गोली वाली मैगजीन का प्रयोग किया गया है, तो यह आशंका प्रबल हो जाती है कि किसी दूसरी पिस्टल का भी प्रयोग किया गया होगा, क्योंकि मुन्ना बजरंगी के शव के पास से दस खोखे बरामद हुए थे।

क्या मुन्ना बजरंगी के पास भी थी पिस्टल

इसका मतलब है कि पिस्टल से दस गोलियां चलाई गई होंगी, अब या तो मैगजीन बदली गई होगी, या फिर दो पिस्टल रही होंगी। इधर सुनील राठी का कहना है कि मुन्ना बजरंगी के पास पिस्टल थी, ऐसे में यह जांच का अहम पहलू है कि पिस्टल सिर्फ मुन्ना बजरंगी या सुनील राठी के पास थी, या फिर दोनों के पास।

ये भी पढ़ें:-मुन्ना बजरंगी हत्याकांड: हाईकोर्ट ने ख़ारिज की सीबीआई जांच की याचिका 

वारदात में एक से अधिक पिस्टल के इस्तेमाल का दावा

पुलिस जांच के दौरान जब जेल के सेफ्टी टैंक देखा गया तो उसमें एक पिस्टल, दो मैगजीन और 22 कारतूस मिले हैं। इससे साफ पता चलता है कि वारदात में एक से अधिक पिस्टल का इस्तेमाल किया गया हैं, हालांकि अफसर अभी भी दावा कर रहे है कि वारदात में एक ही पिस्टल का इस्तेमाल हुआ हैं।

पेशी के लिए बागपत जेल लाया गया था बजरंगी

बताते चले कि झांसी जेल से अदालत में पेशी के लिए आए मुन्ना बजरंगी को आठ जुलाई की रात बागपत जेल में ठहराया गया था। अगले दिन सुबह कारागार की तन्हाई बैरक के पास ही गोलियों से भूनकर उसकी हत्या कर दी गई थी।

पुलिस को मौके से मिले थे 10 खोखे

सूचना पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों को मौके से गोली के दस खोखे बरामद हुए थे। जेल में बंद कुख्यात सुनील राठी ने हत्या करना स्वीकार करते हुए वारदात में प्रयुक्त पिस्टल को सेफ्टी टैंक में फेंकना बताया गया था। इसके लिए पुलिस ने जेल में ही सफाई मशीन मंगवाई थी और करीब 11.30 बजे टैंक की सफाई कराना शुरू कर दिया था।

सेफ्टी टैंक से मिली थी मैगज़ीन लगी पिस्टल

रात करीब 8 बजे से सेफ्टी टैंक से मैगजीन लगी पिस्टल मिली थी। इसमें पांच कारतूस थे। इसके अलावा लाल कलर की पॉलीथिन में 17 कारतूस और एक मैगजीन बरामद हुई थी। सेफ्टी टैंक से मिली पिस्टल देखकर राठी ने देखकर कहा था कि यही वो पिस्टल है जिससे उसने मुन्ना बजरंगी का खून किया हैं।

ये भी पढ़ें:-मुन्ना बजरंगी की सुरक्षा में नहीं हुई कोई चूक : डीजीपी

हत्या राठी ने अकेले की या कोई और भी था शामिल

राठी ने अकेले ही इस पिस्टल से वारदात को अंजाम देने की बात कहीं थी, लेकिन जिस तरह से दो मैगजीन और इतनी संख्या में मिले कारतूस से पता चलता है कि इस घटना में और भी पिस्टल का इस्तेमाल किया गया है। पुलिस को आशंका है कि राठी भले ही हत्या में अकेले ही रहने की बात कर है पर इसमें और भी लोग शामिल होंगे।  हालांकि अफसर एक पिस्टल द्वारा ही हत्या किए जाने का दावा कर रहे हैं, लेकिन सच्चाई क्या है यह तो जांच के बाद ही साफ हो सकेगी।

विदेशी नहीं कंट्री मेड है पिस्टल

उधर, एसपी जयप्रकाश का कहना है कि केस की विवेचना चल रही हैं। जल्द ही पूरे मामले का राजफाश कर दिया जाएगा। अभी तक जांच में एक पिस्टल का ही इस्तेमाल होना प्रतीत हो रहा हैं। सेफ्टी टैंक से चुंबक की मदद से निकाली गई .32 बोर की पिस्टल विदेशी नहीं कंट्री मेड हैं। यह बिहार के मुंगेर की बनी प्रतीत हो रही है। यह जरूर है कि उस पर लामा लिखा हुआ है, लेकिन लिखावट से पता चलता है कि यह कंपनी से लिखा हुई नहीं है, बल्कि किसी ने गोदवाया है।

जेल व्यवस्था की भी खुली पोल

कारागार के सेफ्टी टैंक ने जेल की व्यवस्थाओं की भी पोल खोल दी। उसमें भारी संख्या में शराब की खाली बोलते मिली हैं। इसके अलावा भी अन्य प्रतिबंधित सामग्री मिली हैं। इससे पता चलता है कि जेल में अपराधी ऐश-ओ आराम की ङ्क्षजदगी जीते हैं। जेल उनके लिए मयखाने से कम नहीं हैं, जहां पर बे-रोकटोक जाम छलकाते है और जश्न मनाते हैं।

loading...
Loading...

You may also like

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी युवजन सभा प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा

लखनऊ। पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव की