मोदी के ‘ खतरनाक शासन ’ से लोकतंत्र है संकट में : सोनिया गांधी

मोदी
Please Share This News To Other Peoples....

नई दिल्ली। संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) की चेयरपर्सन सोनिया गांधी  ने रविवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर तीखा हमला बोला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भाषण-शैली से उनकी मायूसी जाहिर होती है। जो इस बात का सूचक है कि मोदी सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है।  उन्होंने कहा कि देश की जनता को उस ‘ खतरनाक शासन ’ से बचाना होगा है। जो भारत के लोकतंत्र को संकट में डाल रहा है।

नरेंद्र मोदी की बयानबाजी उनकी  हताशा को  है दिखाती

सोनिया नवगठित कांग्रेस कार्य समिति की बैठक को संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि भारत के वंचितों और गरीबों पर ‘ निराशा और डर के शासन ’ को लेकर लोगों को आगाह किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बयानबाजी उनकी इस हताशा को दिखाती है। मोदी सरकार के जाने की  उलटी गिनती  शुरू हो गई है।

ये भी पढ़ें :-इस मास्टर प्लान के जरिये भाजपा को शिकस्त देगी कांग्रेस

सोनिया बोली गठबंधन करने और उसे सफल बनाने के लिए प्रतिबद्ध

गांधी ने कहा कि हम गठबंधन करने और उसे सफल बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इस प्रयास में हम सभी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ हैं। उन्होंने कहा कि हमें खतरनाक शासन से देश के लोगों को बचाना होगा जो भारत के लोकतंत्र को संकट में डाल रहा है।  कांग्रेस अध्यक्ष राहुल के नेतृत्व में रविवार को  नवगठित कांग्रेस कार्यसमिति की पहली बैठक हुई।

मनमोहन ने मोदी की निरंतर आत्म-प्रशंसा और जुमलेबाजी की संस्कृति को किया खारिज

बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी शामिल हुए। उन्होंने मोदी की निरंतर आत्म-प्रशंसा और जुमलेबाजी की संस्कृति को खारिज किया। मनमोहन सिंह ने कहा कि यह विकास के लिए जरूरी ठोस नीति के विरुद्ध है। पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने के दावे को पूरा करने के लिए कृषि क्षेत्र में 14 फीसदी संवृद्धि दर की दरकार है, जो कहीं दिखती नहीं है। सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह नई कांग्रेस कार्यकारिणी समिति में वरिष्ठ सदस्य हैं। यही समिति इस साल होने वाले राज्यों के विधानसभा चुनावाओं के साथ-साथ 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी की कोर टीम का गठन करेगी।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *