सीटों के बंटवारा को लेकर खुली परतें, विधानसभा चुनाव तक जारी रहेगा सपा-बसपा गठबंधन

सपा-बसपा गठबंधन
Please Share This News To Other Peoples....

लखनऊ। लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा गठबंधन को लेकर शर्तों व नियमों सारी परतें धीरे-धीरे खुलने लगी हैं। मायावती इस मामले में पीछे हटने की मूड में नहीं दिखाई पड़ रही हैं। सूत्रों की माने तो यह गठबंधन सिर्फ 2019 ही नहीं बल्कि उसके बाद भी जारी रहने वाला है। फिलहाल अभी सीटों के बंटवारे को लेकर निर्वाचन क्षेत्रों का फैसला किया जाएगा।

पढ़ें:- सपा में दोबारा बिगड़ सकते हैं रिश्ते, फिर अपमानित हुए मुलायम और शिवपाल यादव 

सपा-बसपा गठबंधन में इतनी-इतनी सीटों पर होगा बंटवारा

सूत्रों के मुताबिक सपा-बसपा गठबंधन में सीटों के बंटवारे को लेकर बातचीत जारी है बताया जा रहा है कि मायावती की पार्टी लोकसभा की 45 और सपा 35 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। अखिलेश पहले भी कई बार कह चुके हैं कि अगर उन्हें दो कदम पीछे हटना पड़ा तो भी वह तैयार हैं साथ ही उन्होंने अपना मकसद सिर्फ बीजेपी को हराना बताया था इसके अलावा दोनों पार्टियों के बीच गठबंधन केवल मई, 2019 के संसदीय चुनावों तक ही सीमित है, यह 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए नहीं है।

पढ़ें:- अखिलेश-डिंपल के फर्जी फेसबुक व ट्विटर अकाउंट से मचा हडकंप, FIR दर्ज 

कैराना चुनाव में मायावती के कहने पर आरएलडी को मिला टिकट

सपा के सूत्रों के मुताबिक अखिलेश ने मायावती से अनुरोध किया है कि संचार व्यवस्था खुली रहनी चाहिए लेकिन बसपा सुप्रीमो ने बेरुखी दिखाते हुए न कह दिया। मायावती सीधे तौर पर बात नहीं करना चाहती हैं और वह वार्ताकारों के जरिए ही बात कर रही हैं। बताया जा रहा है कि जब कैराना लोकसभा सीट के लिए संयुक्त विपक्षी उम्मीदवार खड़ा करने के प्रस्ताव पर मायावती ने मुलाकात करने से इंकार कर दिया। वह आरएलडी नेता जयंत चौधरी इस सीट पर चुनाव लड़ना चाहती हैं।

पढ़ें:- वाराणसी: दिनदहाड़े सपा नेता की गोली मारकर हत्या, इलाके में तनाव का माहौल

पार्टी के सूत्रों की माने तो अखिलेश ने उन्हें मामले को सुलझाने के लिए लखनऊ में आमंत्रित किया। मायावती ने उनसे मुलाकात करने की बजाय एक संदेश भेजा कि यह टिकट एक महिला मुस्लिम नेता को दी जाए जो रालोद के चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ सकती है। कैराना निर्वाचन क्षेत्र में जाटों का दबदबा है और वे मुसलमानों को वोट नहीं देते। इसलिए यह जाटों में रालोद की लोकप्रियता की परीक्षा होगी। उन्हें यह संदेश वार्ताकारों के जरिए भेजा गया।

Related posts:

राम मनोहर लोहिया अस्पताल में ऑक्सीजन न मिलने से मरीज की मौत, हंगामा
पत्नी से हुए विवाद के बाद पति ने लगाई फांसी
वैदिक सम्मेलन में सियाराम पांडेय शान्त व पंडित प्रताप नारायण सम्मानित
भगवाधारी नेता नफरत फैलाने में व्यस्त, भूल गये वादे : डॉ. मसूद अहमद
लखनऊ : कार का शीशा तोडक़र चोर उड़ा ले गये ब्रीफकेस...
यूपी में फिर एक बार तोड़ी गयी अम्बेडकर की मूर्ति, इलाके में तनाव का माहौल
BJP पर बरसे नीतीश कुमार, मोदी को दे डाली है ये नसीहत
योगी सरकार भीमराव अम्बेडकर का बदलेगी नाम, इस नाम से पुकारे जायेंगे बाबा साहब
बीएसपी प्रमुख बोली- BJP ने शासनादेश को लेकर दी आधी जानकारी
औराद: राहुल बोले- मोदी जी घबराकर करते हैं पर्सनल अटैक, यही है सोच में फर्क
....तो इसलिए कैराना से मायावती नहीं लड़ रहीं चुनाव, जुड़ी हैं सबसे बुरी यादें
कांग्रेस को कर्नाटक के राज्यपाल ने दिया बड़ा झटका, मिलने से किया इंकार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *