एसटीएफ ने कुख्यात बदमाश अनिल दुबे को दो साथियों के साथ किया गिरफ्तार

लखनऊ। एसटीएफ ने 25 हजार के कुख्यात बदमाश अनिल कुमार दुबे को उसके दो साथियों के साथ रायबरेली से गिरफ्तारी किया है। बदमाश ने अपने साथियों के साथ वर्ष 2015 में कृष्णानगर में राज बहादुर की सुपारी लेकर हत्या की थी। इसके अलावा बदमाश के खिलाफ रायबरेली में रंगदारी मांगने, हत्या का प्रयास, हत्या के मुकदमों में वांछित चल रहा था।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ अभिषेक सिंह ने बताया कि बुधवार रात्रि मुखबिर की सटीक सूचना पर एसटीएफ टीम ने इनामिया की गिरफ्तारी के लिए रायबरेली माधोपुर जंगल नाला के पास पहले से ही घेराबन्दी कर ली थी। कुछ ही देर में मौके पर पल्सर सवार तीन युवक पहुंच गए। जंगल नाला के पास भारी पुलिस बल देखकर युवक भागने लगे। इस पर एसटीएफ टीम ने घेराबन्दी कर युवकों को दबोच लिया।

पूछताछ में आरोपितों ने अपना नाम पोस्ट कसारा संग्रामपुर अमेठी निवासी अनिल कुमार दुबे उर्फ राजेश, ग्राम नरिया ढेकाही प्रतापगढ़ निवासी आशुतोष तिवारी और रायबरेली चकदौलताबाद निवासी सुभाष कश्यप बताया है। श्री सिंह के मुताबिक अनिल कुमार दुबे की गिरफ्तारी पर 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था। वह हाल में लखनऊ के गुड़म्बा आदिल नगर में रह रहा था, जबकि अभियुक्त आशुतोष हाल में बछरावा फायर स्टेशन परिसर में रह रहा था।

ये भी पढ़ें:- डीजीपी ने जीआरपी मुख्यालय में किया इंटीग्रेटेड कण्ट्रोल रूम का उद्घाटन 

श्री सिंह के मुताबिक अभियुक्त अनिल दुबे ने कबूला कि वर्ष 2012 में उसने अपना गिरोह बनाया था। इसी वर्ष उसके खिलाफ हत्या के प्रयास का पहला मुकदमा दर्ज हुआ था। वर्ष 2013 में उसने गिरोह का वर्चस्व कायम रखने के लिए अपने प्रतिद्वन्दी विकास सिंह की बेरहमी से पीटकर हत्या कर दी थी। जिसके बाद अनिल के खिलाफ कई मुकदमें दर्ज हुए थे। वर्ष 2015 में राजधानी के कृष्णानगर में राज बहादुर की हत्या कर दी थी।

अनिल अपने गिरोह का वर्चस्व कायम रखने के लिए पीडब्ल्यूडी व आरईएस के ठेकेदारों से रंगदारी वसूलता था। इसके खौफ से ठेकेदार टेण्डर डालने नहीं जाते थे। अभियुक्त अनिल ने अपने साथियों के साथ मंजीत सिंह के घर असलहे से फायरिंग और तोडफ़ोड की थी। वर्ष 2018 में मंजीत ने अपने साथियों के साथ अनिल के गिरोह के शिवाकान्त तिवारी की हत्या कर दी थी। अनिल अपने साथी की हत्या का बदला लेने की फिराक में था।

loading...
Loading...

You may also like

‘माल्याजी’ को चोर कहना गलत होगा वाले बयान पर घिरे गडकरी, फंसने पर कही ये बात

नई दिल्ली। देश में नरेंद्र मोदी सरकार के