Main Sliderख़ास खबरनई दिल्लीराष्ट्रीयव्यापार

डीओटी के आदेश से पहले एजीआर वसूली मामले में कार्रवाई न करने पर सुप्रीम कोर्ट की फटकार

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश (पश्चिम) दूरसंचार सर्किल (DoT) ने बीते कल शुक्रवार को सभी दूरसंचार कंपनियों के लिए सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद सख्त रुख अपनाया हैं। दूरसंचार विभाग (DoT) ने सभी दूरसंचार कंपनियों नोटिस जारी कर शुक्रवार 11.59 बजे तक बकाए का भुगतान करने को कहा था। डीओटी की यह नोटिस भारती एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया जैसी कंपनियों भेजी थी।

दूरसंचार विभाग (DoT) द्वारा दूरसंचार कंपनियों के लिए जारी नोटिस के आदेश में कहा गया है, ‘आपको लाइसेंस शुल्क और स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क के एवज में बकाया राशि का भुगतान 14.02.2020 को रात 11.59 से पहले करने का निर्देश दिया जाता है।’ हालांकि रात 12 बजे से पहले कोई रकम चुकाई गई या नहीं इस जानकारी के आने का अभी इंतजार है।

इसके साथ ही अभी यह भी स्पष्ट नहीं है कि बकाया राशि में से कितने का भुगतान आधी रात तक करने को कहा गया है। सभी 15 यूनिट पर लाइसेंस शुल्क के रूप में 92,642 करोड़ रुपये और स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क के रूप में 55,054 करोड़ रुपये बकाया हैं। कुल मिलाकर इन कंपनियों के ऊपर केंद्र सरकार के 1.47 लाख करोड़ रुपये बकाया हैं।

भाजपा ने बदले 3 राज्यों के अध्यक्ष, विष्णु दत्त शर्मा बने एमपी के बीजेपी अध्यक्ष

दूरसंचार विभाग (DoT) के इस आदेश से पहले समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) वसूली के मामले में कंपनियों के खिलाफ सरकार द्वारा कार्रवाई नहीं करने की वजह से सुप्रीम कोर्ट ने फटकार लगाई है। कोर्ट ने टेलीकॉम कंपनियों को 17 मार्च तक बकाया जमा करने का आदेश भी दिया है।

उच्चतम न्यायालय ने दूरसंचार विभाग के डेस्क अधिकारी के आदेश पर अफसोस जताया। आदेश में एजीआर मामले में दिए गए फैसले के अनुपालन पर रोक लगाई गई थी। बकाया रकम चुकाने का आदेश सर्किल के संचार लेखा नियंत्रक ने जारी किए हैं।

किस पर कितना बकाया?

इस आदेश से वोडाफोन आइडिया के सबसे ज्यादा प्रभावित होने की आशंका है। वोडाफोन आइडिया पर 53,000 करोड़ रुपये बकाया है। इसमें 24,729 करोड़ रुपये स्पेक्ट्रम बकाया और 28,309 करोड़ रुपये लाइसेंस शुल्क के रूप में बकाया है। कंपनी कह चुकी है कि अगर उसे राहत नहीं मिली तो वह अपना कामकाज बंद कर देगी।

भारतीय एयरटेल पर देनदारी करीब 35,586 करोड़ रुपये है। इसमें लाइसेंस शुल्क और स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क शामिल हैं। बाकी बकाया बीएसएनएल/एमटीएनएल और कुछ बंद या दिवालिया हो चुकीं दूरसंचार कंपनियों पर है।

20 फरवरी तक एयरटेल देगा 10 हजार करोड़

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भारती एयरटेल ने बाकायदा पत्र जारी कर 20 फरवरी तक अपने कुल बकाए में से 10 हजार करोड़ रुपये के भुगतान की बात कही है। कंपनी ने कहा है कि बाकी का पैसा वह सुप्रीम कोर्ट की अगली सुनवाई से पहले देगी।

loading...
Tags