योगी सरकार की छवि पर सिस्टम भारी, जी हुजूरी करने वाले जमकर चला रहे दुकान

सिस्टम 24ghanteonline.com
Please Share This News To Other Peoples....

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार की ईमानदार कार्यशैली का असर साफ  दिख रहा  है। सभी काम पारदर्शी तरीके से हो रहें हैं और सरकारी महकमों में रिश्वतखोरी भी लगभग बंद है, लेकिन योगी सरकार की ईमानदार  छवि पर ‘ सिस्टम ’ भारी पड़ता नजर आ रहा है ।

हर काम का अपना ही होता है सिस्टम

सिस्टम क्या है ? इस  सवाल का जबाव आप भी जानना चाहतें होंगे। तो इस सिस्टम की पड़ताल के लिए मुझे जुगाडिय़ों से संपर्क करना पड़ा। तो फिर क्या,ऐसी चटपटी और मसालेदार बातें निकल कर आयी कि होश उड़ गया। सिस्टम (मंत्री के पिछलग्गू ) हैं। मंत्री कोई भी बने। सरकार बनने के बाद से मंत्री के साथ 24 घंटे ‘जी भैया’ करे, तो वहीं से सिस्टम शुरू हो जाता है।

बतातें चलें कि यूपी के अफसर बहुत सियाने हैं। ये अफसर मंत्री को नहीं उनके सिस्टम को फालो करना शुरू कर देते हैं।

ये भी पढ़ें : ADG होमगार्ड का कार के बदले हुआ तबादला, मंत्री का साथी पीठ पीछे कर रहा भ्रष्टाचार 

‘जी भईया’ कहने वालों की दुकानें चल नहीं रही हैं दौड़

योगी सरकार में अफसरों ने ऐसे ही चाटुकार सॉरी ‘सिस्टम’ को पकड़ रखा है।  इन्हीं के माध्यम से सारा दो नंबर का कामधड़ल्ले से चल रहें हैं। आश्चर्य की बात यह है कि मंत्री को मालूम भी नहीं चलता कि उनके नाम पर ‘जी भईया’ कहने वालों की दुकानें चल नहीं दौड़ रही है। मंत्री तो भरोसेमंद के कहने पर कागजों पर ‘चिडिय़ा’ बैठाते चले गये और सिस्टम करोड़पति बन गये ।

सिस्टम होमगार्ड विभाग सबसे ज्यादा भारी

सिस्टम होमगार्ड विभाग सबसे ज्यादा भारी है। होमगार्ड विभाग के मंत्री अनिल राजभर हैं । मंत्री निहायत शरीफ और ईमानदार हैं। मंत्री बनने के बाद उनके साथ बागी बलिया के नेता भरत भईया जो कभी पूर्वांचल के मधुबन विधान सभा से चुनाव लडऩा चाहते थे लेकिन टिकट दारा सिंह चौहान को मिला और वे जीतकर मंत्री भी बन गये। अब भरत भईया का करें। टिकट मिला नहीं भाजपा में कोई पद मिला नहीं,रह गये सिर्फ आम कार्यकर्ता बन कर लेकिन जब अनिल राजभर होमगार्ड मंत्री बने। तो भरत भईया ने उनको पकड़ लिया और ‘लल्लन टॉप’ बनकर हर उस जगह जाने लगे जहां अनिल राजभर जाते हैं ।

विभाग के महाशातिर अफसरों की पैनी निगाहों में भरत भईया चढ़ गये। वर्दी की गरिमा को किनारे कर अफसर भईया की चाटुकारिता में जुट गये । फिर क्या था, भईया को तो मानो बिन मांगे मुराद मिल गयी। भईया ने भी आव देखा न ताव,बजाने लगे अफसरों पर रौब। उन्हें भी लगा कि भाजपा ने टिकट नहीं दिया कोई बात नहीं। मंत्री नहीं बना कोई गम नहीं,लेकिन भौकाल का पूरा मजा तो मिल ही रहा है।

ये भी पढ़ें : भ्रष्ट होमगार्ड मेजर और इंस्पेक्टर प्रशिक्षण के नाम पर कर रहे जमकर वसूली 

डीआईजी की स्कार्पियो व होमगार्ड करते हैं भईया की जी हुजूरी

इस समय भईया की ये हालत है कि चारबाग स्टेशन पर उनकी ट्रेन रूकती है तो वर्दीधारी होमगार्ड बेचैनी से उनका एसी कोच को निहारता है। ताकि देर न हो जाये और भईया नाराज न हो जाये। भईया के कदम को प्लेटफार्म पर रखते ही फिर जोरदार सलामी मिलने लगती है। प्लेटफार्म से बाहर आते ही डीआईजी एस के सिंह की ब्लैक कलर की स्कार्पियो  गाड़ी खड़ी होती है। उसके बाद भईया सरकारी चालक उन्हें बिठाकर उनके गोमतीनगर स्थित निजी आवास पर ले जाता है ।

डीआईजी के मकान में चलती है भरत भईया की लीला

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार डीआईजी ने अपना पूरा मकान भईया के लिये छोड़ रखा है। शाम होते ही भईया की मन पसंद ब्लैक डाग और मुर्गा परोसा जाता है। इससे साफ़ होता है कि भईया का जलवा मंत्री से कम नहीं है। डीआईजी ने अपने मतलब के कई बड़े काम भईया से करा लिया है और आगे भी कार्यों का सिलसिला अनवरत जारी रहेगा। इस खेल के बारे में मंत्री को कुछ मालूम ही नहीं है तो हम क्या करें भाई?

loading...

2 thoughts on “योगी सरकार की छवि पर सिस्टम भारी, जी हुजूरी करने वाले जमकर चला रहे दुकान”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *