ख़ास खबरखेलराष्ट्रीय

टी-20 टूर्नामेंट के मैच में टीम को एक रन से दिलाई जीत, बच्चों को देते हैं फ्री कोचिंग

चंडीगढ़। जिस उम्र में लोग ज्यादा चल-फिर नहीं पाते, उस उम्र में डॉ. एआर लूथरा यंगस्टर्स के बीच क्रिकेट ग्राउंड में शॉट्स लगा रहे होते हैं। चंडीगढ़ के 71 साल के डॉ. लूथरा की बदौलत उनकी टीम ने सेंसर दैट कैंसर टी20 क्रिकेट टूर्नामेंट में कंबाइन क्रिकेट इलेवन को एक रन से हराकर फाइनल में जगह बनाई है।

मैच में डॉ. लूथरा इलेवन ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवरों में 6 विकेट पर 141 रन बनाए थे। डाॅ. लूथरा ने 39 रन की नाबाद पारी खेली। कंबाइन क्रिकेट इलेवन की टीम 20 ओवरों में 140 रन बना पाई। कप्तान डाॅ. लूथरा ने 23 रन देकर 3 विकेट लिए। उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया।

डॉ. लूथरा 11 साल की उम्र से खेल रहे हैं। उनका अनुभव 50 साल से ज्यादा का है। वे इंटरनेशनल क्रिकेटर मदन लाल और बिशन सिंह बेदी के साथ खेल चुके हैं। डॉ. लूथरा नेशनल खेलना चाहते थे। लेकिन 21 साल की उम्र में एक्सीडेंट हुआ और इसके बाद खेलना छोड़ दिया था।

डॉ. लूथरा न तो कोई स्पेशल डाइट लेते हैं और न ही कोई खास प्रैक्टिस करते हैं। वे कहते हैं, “यहां पर हर क्रिकेटिंग एक्सरसाइज मैं बच्चों के साथ करता हूं और उन्हें कराता भी हूं।” वे अपने सेंटर पर रविवार को कोचिंग भी देते हैं, जो पूरी तरह से फ्री होती है। टूर्नामेंट भी कराते हैं।

loading...
Loading...