तेजस्वी-तेजप्रताप विवाद के बाद लालू परिवार पर आया यह संकट

तेजस्वी-तेजप्रतापतेजस्वी-तेजप्रताप

पटना। बीते कुछ दिनों से लालू परिवार और RJD में तेजस्वी-तेजप्रताप विवाद को लेकर काफी चिंता का माहौल देखा गया। लेकिन लालू के बेटे तेजस्वी-तेजप्रताप दोनों ने यह साफ़ कर दिया था कि आपस में उनलोग का कोई विवाद नहीं है। ऐसे में एक नया संकट लालू परिवार में दस्तक डेटा नजर आ रहा है। मंगलवार को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के परिवार के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 45 करोड़ की जमीन पर बन रहे मॉल को अपने कब्जे में ले लिया है। बताया जा रहा है कि यह मामला रेलवे टेंडर घोटाले से जुड़ा है और ईडी ने ‘धनशोधन रोकथाम कानून’ के तहत कार्रवाई कर रही है। बताया जा रहा है कि उस जमीन पर बिहार के सबसे बड़े मॉल का निर्माण हो रहा था। हालांकि इस जगह पर पिछले वर्ष से ही निर्माण कार्य बंद है।

तेजस्वी-तेजप्रताप ने आपसी विवाद से किया इनकार

लालू प्रसाद यादव के परिवार से संकट घटने का नाम नहीं ले रहे हैं। परिवार में आपसी क्लेश का JDU व बिहार बीजेपी ने अच्छे से चुटकी लिया था। भले ही मीडिया के सामने तेजस्वी-तेजप्रताप ने यह साफ़ कर दिया कि उनके बीच कोई विवाद नहीं हैं। लेकिन तेजप्रताप का रविवार को दिया उया बयान यह साफ़ बता रहा था कि पार्टी में विवाद शुरू हो गया है। ऐसे में परिवार से जुड़ी इस भूमि को ED ने ‘धनशोधन रोकथाम एक्ट’ के तहत 8 दिसम्बर 2017 को अस्थाई तौर पर जब्त करने का आदेश जारी किया था। पिछले साल जुलाई में CBI ने रेलवे टेंडर घोटाले में FIR दर्ज कर छापेमारी की थी। देश की राजधानी दिल्ली से आई ED की टीम ने बेली रोड स्थित जिस तीन एकड़ जमीन कब्जे में ली है।

ये भी पढ़ें: फूलन देवी का मुलायम सिंह यादव ने कैसे किया इस्तेमाल, वर्षों बाद हुआ खुलासा 

छापेमारी के बाद ED ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में इन्फोर्समेंट केस इन्फॉरमेशन रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू की थी। साथ ही लारा प्रोजेक्ट कंपनी प्राइवेट लिमिटेड द्वारा डिलाइट कंपनी से बेली रोड पर खरीदी गई करीब तीन एकड़ जमीन भी जांच के दायरे में आ गई थी। आरोप है कि रेलवे के होटलों को लीज पर देने के एवज में Delight कंपनी को महंगी जमीन दी गई। जिसके  बाद उस कंपनी से लालू परिवार की कंपनी ‘लारा’ ने काफी कम कीमत में जमीन खरीद ली। बता दें कि Delight कंपनी राजद के कद्दावर नेता और लालू के करीबी प्रेमचंद गुप्ता की पत्नी सरला गुप्ता के नाम पर है।

ईडी ने पूछताछ की थी 

इस मामले में ईडी ने जांच शुरू करने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से पूछताछ की गई थी। जानकारी है कि राबड़ी देवी और तेजस्वी से पूछताछ में जमीन खरीदने को लेकर संपत्ति के स्रोत पर संतोषजनक जवाब नहीं मिला था। यह जमीन राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव सहित लालू यादव के अन्य परिवार वालो के नाम पर है। आरोप है कि यह जमीन यूपीए-1 सरकार के वक्त खरीदी गयी थी। उस वक़्त लालू प्रसाद यादव रेल मंत्री थे। यह जमीन IRCTC के दो होटलों के रखरखाव का ठेका देने के लिए रिश्वत के तौर पर ली गई थी। इस मामले में सीबीआई ने कई ठिकानों पर छापेमारी की थी। सीबीआई भी इस मामले में लालू यादव और तेजस्वी से पूछताछ कर चुकी है।

loading...
Loading...

You may also like

सतना में अमित शाह ने कहा- कांग्रेस ने तीन तलाक बिल का विरोध किया

सतना। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मध्यप्रदेश के सतना