आतंकी ने की ‘राइजिंग स्टार’ के संपादक की हत्या, गृहमंत्री राजनाथ ने जताया शोक

जम्मू-कश्मीरजम्मू-कश्मीर

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में आतंकियों ने वरिष्ठ पत्रकार और राज्य के चर्चित अखबार ‘राइजिंग कश्मीर’ के संपादक सुजात बुखारी की गुरुवार को गोली मार कर हत्या कर दी।इस हमले में बुखारी के एक पीएसओ की भी मौत होगी, वाही दूसरा घायल हो गया।

संपादक की मौत पर रो पड़ी मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती

पत्रकार की मौत के बाद जम्‍मू-कश्‍मीर की मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती अस्पताल पहुंची और मीडिया से बात करते हुए रो पड़ीं।

जम्मू-कश्मीर
 

अपने आंसुओं को रोकने की कोशिश करते हुए महबूबा ने कहा, ‘मैं क्या कह सकती हूं। कुछ दिन पहले ही वह मुझसे मिलने आए थे।’उसके बाद उन्होंने बोला की ‘मैं बर्बर हिंसा के कृत्य की कड़ी निन्दा करती हूं और प्रार्थना करती हूं कि ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें। उनके परिवार के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं।

जम्मू-कश्मीर
 

ते भी पढ़े :INDvsAFG: पहले दिन टीम इंडिया ने 350 रन बनाने में गंवाए 6 विकेट 

राजनाथ ने कहा सुजात बुखारी एक साहसी और निडर पत्रकार थे

एक ट्वीट में मुख्‍यमंत्रीमें लिखा ‘शुजात की हत्या के साथ आतंकवाद ने और नीचता दिखाई है। वह भी ईद की पूर्व संध्या पर। शांति बहाल करने के हमारे प्रयासों को कमतर करने के प्रयास करने वाली शक्तियों के खिलाफ हमें एकजुट होना चाहिए। न्याय होगा।’ साथ की गृहमंत्री राजनाथ सिंह इस हमले की निंदा करते हुए कहा की वह एक साहसी और निडर पत्रकार थे।  यह हमला ऐसी आवाजों को चुप कराने की कोशिश है।

2000 में भी हुआ था आतंकी हमला

आपको बता दें की सुजात बुखारी पर इससे पहले 2000 में भी बुखारी पर आतंकी ने  हमला किया था, जिसमें वो बाल बाल बचे थे।  जिसके बाद से ही जम्मू-कश्मीर पुलिस ने उन्हें सुरक्षा उपलब्ध करा रखी थी।

बुखारी से पहले तीन पत्रकारों को मार चुके आतंकवादी 

आपको बता दें की ये पहली बार नहीं था की आतंकियों ने किसी पत्रकार की हत्या की है इसे पहेले भी 1991 में अलसफा के संपादक मोहम्मद शबान वकील की हटिया हुई थी।  उसके बाद 1995 में बम धमाके में पूर्व बीबीसी संवाददाता यूसुफ जमील तो बाख गए थे पर एएनआई के कैमरामैन की जान चली गई थी फिर 31 जनवरी, 2003 को नाफा के संपादक परवेज मोहम्मद सुल्तान की भी आतंकियों ने बेरहमी से हत्या कर दी थी।

ये भी पढ़े : ईद के मौके पर घर जा रहे जवान को आतंकियों ने मार गिराया,शव को पत्थर से कुचला 

एक ट्वीट में बकरी ने लिखा ‘कश्मीर में हमने पत्रकारिता गर्व के साथ की है’

हमले कुछ घंटे पहले ही शुजात बुखारी ने ट्विटर पर दिल्ली के कुछ पत्रकारों पर कश्मीर को लेकर ‘पक्षपातपूर्ण रिपोर्टिंग’ का आरोप लगाया जाने पर बुखारी ने अपने काम का बचाव किया। एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा था की, ‘कश्मीर में हमने पत्रकारिता गर्व के साथ की है और इस जमीन पर जो कुछ होगा, हम उसे प्रमुखता से उठाते रहेंगे।’ 

घाटी में शांति के लिए कर चुके थे कई सम्मेलनों का आयोजन 

बता दें की शुजात बुखारी से आतंकी इसलिए काफी नाराज थे क्योकि वह घाटी में शांति प्रक्रिया को आगे बढ़ाने में जोर-शोर से लगे थे। वह इस संबंध में कई सम्मेलनों का आयोजन करा चुके थे।

loading...
Loading...

You may also like

#MeToo पर बीजेपी विधायक ने कहा- महिलाएं मशहूर होने के लिए शॉर्टकट खोजती हैं

नई दिल्ली। अपने विवादित बयानों से चर्चा में