केंद्र सरकार किसी को भी हिंदी भाषा के लिए नहीं कर रही मजबूर- वित्त मंत्री सीतारमण

Loading...

नई दिल्ली। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में कहा केंद्र सरकार किसी को भी हिंदी भाषा के लिए मजबूर नहीं कर रही है। उन्होंने आगे कहा, इसके विपरीत, श्रेष्ण भारत योजना के तहत सरकार केवल तमिल भाषा का प्रचार कर रही है।


ये भी पढ़ें :-मां-बाप से बगावत कर किया प्रेम विवाह, पति निकला एचआईवी पीड़ित 

आपको बता दें इससे पहले सोमवार को राज्य की विधानसभा में डाक परिक्षाएं हिंदी और अंग्रेजी में कराए जाने को लेकर काफी विवाद हो गया। रविवार को केवल दो ही भाषाओं में आयोजित इस परिक्षा का विरोध करते हुए मुख्य विपक्षी दल द्रमुक के विधायकों ने सदन से वाकआउट किया।

ये भी पढ़ें :-योगी ने पापों को छिपाने के लिए अघोषित आपातकाल लागू किया : प्रमोद तिवारी 

जानकारी के मुताबिक कांग्रेस तथा यूनियन मुस्लिम लीग ने भी केवल दो भाषाओं में ही परीक्षा कराए जाने का विरोध किया। द्रमुक विधायक टी थेन्नारासुन ने प्रश्नकाल खत्म होते ही इस मुद्दे को उठाया और राज्य के अधिकारों की रक्षा के लिये विशेष चर्चा की मांग की।

Loading...
loading...

You may also like

तिहाड़ में यासीन मलिक और बिट्टा जी रहे हैं नरक की जिंदगी

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर