बहत्तर घंटे की सफाई व्यवस्था की सच्चाई, आवारा जानवर कर रहे है कोढ़ में खाज का काम

सफाई व्यवस्था
Loading...

लखनऊ। माननीय उच्च न्यायालय के तथा नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदशों की अवहेलना करते हुये नाका क्षेत्र के बशीरतगंज वार्ड के राजेन्द्र नगर इलाके में प्रतिदिन सफाईकर्मी झाड़ू लगाने के बाद एकत्र कूड़े के ढेर में आग लगा देतें है जिससे पूरे इलाके में प्रदूषण फैल जाता है। छोटे-छोटे ढेर में कई स्थानों पर जलते हुये कूड़े के ढेर नवयुग कन्या विद्यालय पॉयनियर माण्टेसरी स्कूल के आस-पास तथा राजेन्द्र नगर आधुनिक कूड़घर के पास रोज सुबह जलते हुये देखे जा सकते है।

एनजीटी के निर्देशों का उल्लघंन

राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण व माननीय उच्च न्यायालय की सख्ती व बहत्तर घण्टों की समय सीमा दिये जाने के बाद तथा युद्धस्तर पर कार्य होने के बाद भी शहर की सफाई व्यवस्था ध्वस्त है। वही सफाई कर्मचारी एकत्रित कूड़े को उठाने के बजाय वही पर जला दे रहे है जिससे आस-पास के इलाकों में प्रदूषण फैल रहा है। सुबह स्कूल आने-जाने वालें बच्चों को कितनी परेशानी होती है इससे किसी को कोई मतलब नहीं है।

जोन अधिकारी तथा सुपरवाइजर सफाईकर्मियों से कुछ कहने के बजाय अनदेखा कर अपरोक्ष रूप से इनके इस कृत्य को बढ़ावा देते है। साथ ही माननीय हाईकोर्ट व एनजीटी के निर्देशों की अवहेलना कर रहे है।

उठाने के बजाय सफाईकर्मी खुले में जला रहे है कूड़ा

नगर निगम के पर्यावरण अभियन्ता प्रशान्त भूषण के अनुसार खुले में कूड़ा जलाना अपराध है और इसके लिये सफाईकर्मियों से जुर्माना भी वसूला जाता है परन्तु एकत्रित कूड़े को जलाने की घटना उनके संज्ञान में नहीं है वह खुद जाकर देखेगें व जिम्मेदार जोन अधिकारी व सफाईकर्मी पर आवश्यक कार्यवाही करेंगे।

स्थानीय खान-पान का होटल चलाने वाले यादव जी के अनुसार पहले उनकी दुकान के पास पहले कूड़ा एकत्र नहीं होता था परन्तु अब सफाई कर्मचारी वही इकठ्ठा करके जला भी देते है।

स्थानीय पार्षद शशि गुप्ता भी सफाईकर्मियों की इस हरकतों से पूरी तरह अनजान है। इस तरह रानीगंज, झण्डे वाले चौराहे के पास सराय फाटक के आस-पास भी सफाईकर्मी कूड़ा एकत्र कर आग लगा देते है और सभी देखते रहते है।

जब कूड़ा जलाने से मना किया गया तो जबाब मिला कि बाबूजी झाडू़ लगा दी यही बहुत है अब कूड़ा उठा कर इकठ्ठा कौन करे। वैसे भी सफाईकर्मियो की संख्या कम है।

वास्तव में जो कार्य पिछले कई वर्षो में नहीं हुआ वह मात्र बहत्तर घंटों में कैसे हो सकता है यह तो बाद में पता चलेगा फिलहाल शहर को सफाईकर्मियों व अधिकारियों के रवैये के चलते कूडे के ढेर से मुक्ति मिलने वाली नहीं है।

Loading...
loading...

You may also like

सीएम एच.डी कुमारस्वामी ने गवर्नर वजूभाई वाला से मिलने का वक्त मांगा, उन्हें सौंप सकते अपना इस्तीफा

Loading... 🔊 Listen This News सूत्रों के मुताबिक