बीजेपी और कांग्रेस चोर-चोर मौसेरे भाई: मायावती

बीजेपीबीजेपी

लखनऊ।  बीएसपी सुप्रीमों व  पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने कहा कि भारतीय संविधान आज खतरे में  है। परन्तु यह भी एक ऐतिहासिक सत्य है कि बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर का समतामूलक मानवतावादी संविधान को उनकी  मंशा के अनुसार लागू करने में कांग्रेस व बीजेपी एण्ड कम्पनी बराबर की दोषी हैं । संविधान के पवित्र उद्देश्यों को फेल साबित करने के मामले में ये दोनों ही चोर-चोर मौसेरे भाई हैं।

ये भी पढ़ें :-तीन तलाक पर ‘हाथ’ का साथ, सिर्फ सुझाव देगी कांग्रेस 

बीजेपी एण्ड कम्पनी के नेतृत्व में संविधान को खतरा 

  • नवनियुक्त कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के इस वक्तव्य पर कि संविधान खतरे में है।
  • इस बयान पर  प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये सुश्री मायावती  ने कहा कि मोदी के नेतृत्व में आरएसएस की विघटनकारी व हिन्दुत्ववादी सोच वाली सरकार में देश का संविधान खतरें में है।
  • यह बात बीजेपी एण्ड कम्पनी के लोग चाहे लाख नकारें।
  • परन्तु यह सभी जानते है कि आरएसएस की सोच संविधान व भारतीय तिरंगा विरोधी रही है।
  • ये लोग मुँह में राम बगल में छुरी की तरह संविधान की शपथ लेकर सरकार में तो आ गये है।
  • इस संविधान की आड़ में अपनी घोर कट्टरवारी व जातिवादी सोच के मुताबिक लागू करने में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं।

तनाव के दौर से गुजर रही हैं संवैधानिक व लोकतांत्रिक संस्थायें

  • यही कारण है कि आज देश की हर संवैधानिक व लोकतांत्रिक संस्थायें ।
  • यहाँ तक कि संसदन्यायपालिका व कार्यपालिका सभी एक अभूतपूर्व संकट व तनाव के दौर से गुजर रही हैं।
  •  बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर ने देश के आजादी के बाद  जिस सामाजिक व आर्थिक लोकतंत्र का मानवतावादी सपना देखा था।

गैर कांग्रेस सरकार ने बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर को भारत रत्न से  किया सम्मानित

  • वह कांग्रेस के लम्बे शासनकाल के दौरान बिखरता चला गया।
  • छुआ-छात जातीयताजातिवादी हिंसाव भेदभाव संविधान में तो समाप्त कर दिया गया।
  • परन्तु सत्ता वर्ग के लोग इसको हर स्तर पर संरक्षण ही देते रहे।
  • साथ ही अन्य पिछड़े वर्ग को उसका हक देने के मामले में काफी ज्यादा भेदभाव बढ़ता गया।
  • यही कारण है कि  गैर कांग्रेस सरकार ने बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर को भारत रत्न से सम्मानित किया जा सका।
  •  ओबीसी वर्ग को शिक्षा व नौकरी के क्षेत्र में आरक्षण की व्यवस्था की जा सकी।
  • कांग्रेस को यह बात भी देश को बतानी चाहिए कि बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर ने सन् 1951 में देश के पहले कानून मंत्री के पद से इस्तीफा क्यों दिया था।

खुलेआम हो रही है संविधान की अवमानना

  • कांग्रेस पार्टी  के कारण  बहुजन समाज को अन्तत: 14 अप्रैल सन् 1984 को बीएसपी  की स्थापना करनी पड़ी थी।
  • मायावती ने कहा कि  आज खुलेआम संविधान की अवमानना करके देश के इतिहास में काला अध्याय जोड़ रहे है।
  •  परन्तु कांग्रेस का भी दामन कम दागदार नहीं है।
  • बीएसपी बाबा साहब डा. अम्बेडकर के पवित्र संविधान की रक्षा में अपना जी-जान ही नहीं।
  • बल्कि अपना सब कुछ कुर्बान कर देगी।
  •  कांग्रेस पार्टी किस नैतिक आधार पर बीजेपी की संविधान विरोधी सोच से मजबूती से लड़ेगी।
  •  यह देखने वाली बात होगी।
  • जहाँ तक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार की संविधान को तिरंगा के बजाय भगवा रूप देने की बात है ।
  • तो इससे डटकर लोहा लेने की क्षमता  देश के करोड़ों गरीबोंदलितोंपिछड़ों व धार्मिक अल्पसंख्यकों में है।
  • जिनकी भलाई के लिए ही बाबा साहब डा. अम्बेडकर ने दिन-रात अटूट मेहनत करके इस अनुपम संविधान का निर्माण किया था।
  • जिसका अनुसरण करने की कोशिश दूसरे देश करते हैं।
loading...
Loading...

You may also like

आठ माह के मासूम की सांस नली में दूध फंसने से बच्चे की मौत

लखनऊ। बच्चों को लिटाकर दूध पिलाने से शहर