Main Sliderउत्तर प्रदेशख़ास खबरधर्मरामपुरराष्ट्रीय

इस बार की ईद संयम से घरों में रहकर सादगी से मनाएं : आन्जनेय कुमार सिंह, जिलाधिकारी

रामपुर। यह रमज़ान के मुक़द्दस महीने का आख़िरी अशरा चल रहा है। कल अलविदा है और फिर उसके बाद अगर चांद दिखा तो फिर रविवार या सोमवार की ईद हो सकती है। लेकिन कोरोना वायरस के चलते इस बार प्रशासन के साथ उलेमाओ ने फैसला लिया है कि ईद पर ईदगाह में नमाज़ नहीं होगी।

मस्जिदों में भी सिर्फ 5 लोग नमाज़ पड़ेंगे। जबकि लॉकडाउन के पहले चरण 25 मार्च से ही लोग अपने घरों पर नमाज़ अदा कर रहे है।

जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह ने आज विकास भवन सभागार में जनपद के उलेमाओं के साथ बैठक संपन्न की।बैठक में लॉकडाउन के दौरान ईद के त्यौहार को मनाए जाने के संबंध में विस्तार पूर्वक चर्चा की गई।

ईद पर ईदगाह में नहीं होगी नमाज़, घरों में लोग अदा करेगे नमाज़

जिलाधिकारी ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण से संबंधित मामले जनपद में लगातार बढ़ते जा रहे हैं परंतु इन मामलों से घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि इनमें अहमदाबाद एवं महाराष्ट्र से आने वाले लोग सामान्यतः पॉज़िटिव पाए जा रहे हैं जिन पर प्रशासनिक स्तर से निगरानी समितियों के माध्यम से कड़ी निगरानी भी रखी जा रही है।

संवेदनशील प्रदेशो एवं जनपदों से आने वाले लोगों को 21 दिन तक अनिवार्य रूप से होम क्वॉरेंटाइन रहने के निर्देश दिए गए हैं जिसका सख्ती से पालन भी सुनिश्चित कराया जा रहा है।

ऐसी स्थिति में ईद के त्यौहार के दौरान फिजिकल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखना बेहद ज़रूरी है।यह निर्धारित किया गया कि जिस प्रकार अभी तक गुज़रे रमज़ान के दौरान 5 लोग मस्जिदों में नमाज पढ़ते थे उसी प्रकार ईद के त्योहार और अलविदा में भी 5 लोग ही मस्जिदों में नमाज पढ़ेंगे इसके अलावा लोग अपने घरों में नमाज़ अदा करेंगे।ईदगाह में नमाज की अदायगी नहीं होगी।

loading...
Loading...