फर्जी दस्तावेजों के आधार पर भारत में रह रहे तीन बांग्लादेशियों को 5-5 साल की सजा

बांग्लादेशियों को 5-5 साल की सजा
Loading...

लखनऊ। फर्जी दस्तावेजों के आधार पर भारत में रह रहे तीन बांग्लादेशी नागरिकों को न्यायालय ने 5-5 साल की सजा देने के साथ ही 19 हजार रुपये जुमार्ना भी लगाया है। तीनों आरोपी सगे भाई है, उनको यूपी एटीएस ने वर्ष 2017 में लखनऊ जंक्शन से गिरफ्तार किया था। इनका संबंध बांग्लादेश के प्रतिबंधित संगठन अंसारुल बांग्ला टीम से भी था।

एटीएस के एडीजी अमिताभ ठाकुर ने बताया कि एटीएस ने अपने लखनऊ थाने में तीनों अभियुक्तों के विरुद्ध आईपीसी की धारा 420, 467, 468 व 120बी के अलावा यूए (पी) एक्ट की धारा 18/19 के तहत मुकदमा दर्ज किया था। मामले की गंभीरता को देखते हुए एटीएस ने मुकदमे में ठीक से पैरवी की और सभी तथ्यों को न्यायालय के सामने मजबूती से रखा।

तीनो आरोपी हैं सगे भाई

विशेष न्यायाधीश (एससी-एसटी एक्ट) लखनऊ ने गुरुवार को तीनों अभियुक्तों मो. फिरदौस, इमरान व फरीदुद्दीन को विभिन्न धाराओं के तहत दोषी मानते हुए सजा सुनाई। तीनों बिना वीजा व पासपोर्ट के ही भारत में प्रवेश कर मदरसा तामिल कुरान बन्हेड़ाखास देवबंद सहारनपुर में अवैध रूप से रह रहे थे। भारत से फरार होते समय इन अभियुक्तों को एटीएस ने अमृतसर-हावड़ा एक्सप्रेस से लखनऊ जंक्शन पर गिरफ्तार किया था।

बांग्लादेश के जसौर जिले के रहने वाले हैं तीनों भाई

सजा पाने वाले अभियुक्त मो. फिरदौस, इमरान व फरीदुद्दीन भाई हैं। वे मूल रूप से बांग्लादेश के जसौर जिले के थाना कोतवाली क्षेत्र स्थित पंथापाड़ा सुट्टी घाता के रहने वाले हैं। तीनों को न्यायालय ने धारा 420 के लिए 2-2 वर्ष का साधारण कारावास व 5-5 हजार जुमार्ना, धारा 467 के लिए 5-5 वर्ष का सश्रम कारावास व 5-5 हजार जुमार्ना, धारा 468 के लिए 4-4 वर्ष का सश्रम कारावास व 5-5 हजार जुमार्ना व धारा 120 बी के लिए 3-3 वर्ष का सश्रम कारावास व 2-2 हजार जुमार्ना के अलावा धारा 14 विदेशी अधिनियम के लिए 3-3 वर्ष सश्रम कारावास व 2-2 हजार जुमार्ना लगाया।

कारावास की सजा एक साथ चलेगी व जुमार्ने की राशि जुड़ेगी। जुमार्ना अदा न करने की स्थिति में प्रत्येक धाराओं में 6-6 माह के अतिरिक्त कारावास की सजा काटनी होगी। इस प्रकार अलग-अलग धाराओं में न्यायालय ने कुल 5-5 वर्ष के कारावास व 19 हजार रुपये के अर्थदंड लगाया है।

Loading...
loading...

You may also like

जानें कम हाइट वाली गर्ल्स के लिए क्या है बेस्ट सेलेक्शन

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्ली। कई बार