बंथरा और सरोजनीनगर में तीन परिवारों को बंधक बनाकर लूट

- in क्राइम, लखनऊ
लूटलूट

लखनऊ। सरोजनीनगर और बंथरा इलाके में गुरुवार रात लोहे के रॉड, असलहों और धारदार हथियार से लैस करीब आधा दर्जन बदमाशों ने दो गांवों के 3 घरों में धावा बोल दिया। इस दौरान विरोध करने पर बदमाशों ने दो घरों के चार लोगों को मारपीट कर बुरी तरह घायल कर दिया। जबकि इस घटना में एक परिवार के दो लोगों को चोटें आई हैं। वहीं एक मकान में लोगों को मारपीट कर बदमाश हजारों की नकदी व गहने लूट ले गए। जबकि गांव में शोरगुल मच जाने के कारण दो घरों से बदमाश कुछ भी नहीं ले जा सके।

तीन परिवारों को बंधक बनाकर लूट

बंथरा इलाके के नुर्दी खेड़ा निवासी 70 वर्षीय किसान सजीवन लाल यादव अपने मकान में पत्नी पुष्पा 65, बेटा शिवकुमार 25 व पवन 20 के साथ रहते हैं। बताते हैं कि गुरुवार रात सजीवन और उसकी पत्नी पुष्पा एक कमरे में, जबकि शिवकुमार और पवन एक कमरे में सो रहे थे। इसी बीच रात करीब 2 बजे पुष्पा लघुशंका के लिए घर के बाहर निकली। जहां पहले से ही खड़े करीब आधा दर्जन बदमाशों ने उसे घेर लिया और वही पर लोहे की रॉड से उसकी पिटाई कर दी। इस दौरान बदमाशों ने पुष्पा के पैरों में पड़ी चांदी की पायल उतरवाली और उसे लेकर घर के अंदर पहुंचे। बदमाशों ने यहां सजीवन के ऊपर धारदार हथियार से हमला बोल कर उसे लहूलुहान कर दिया।

यह भी पढ़ें : डा. शकुन्तला मिश्रा पुनर्वास विवि प्रबंधन की लापरवाही के खिलाफ छात्र-छात्रायें सडक़ पर 

लोहे की रॉड, धारदार हथियार और असलहों से लैस आधा दर्जन बदमाशों ने दो को किया लहुलूहान

बदमाशों ने यहां सजीवन के कमरे में रखें 6 हजार रुपये और करीब 80 हजार रुपये कीमत के गहनों से भरी संदूक उठा ली। लेकिन इसी दौरान सजीवन और पुष्पा ने चीख-पुकार मचा दी। अपने मां-बाप की चीख पुकार सुनकर शिवकुमार और पवन भी अपने कमरे से बाहर निकले और शोर मचाने लगे। उनका शोर सुनते ही बदमाश वहां से नगदी और संदूक लेकर भाग खड़े हुए। भरी रात हो हल्ला सुनकर तमाम ग्रामीण उसके घर पहुंच गए। इसी बीच ग्रामीणों का शोर सुनकर गांव के ही किसान महेश यादव का परिवार अपने दो मंजिला मकान से नीचे उतरा।

जहां परिवार के लोगों ने देखा कि उनके मकान के भी निचले हिस्से के चारों कमरों के ताले टूटे मिले। लेकिन कमरों में कुछ खास सामान न होने के कारण बदमाश यहां से कुछ नहीं ले जा सके। फिलहाल आनन-फानन ग्रामीणों ने घटना की सूचना पुलिस को दी। उधर इस घटना में बुरी तरह घायल पुष्पा और सजीवन को सरोजनीनगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। जहां से चिकित्सकों ने सजीवन को ट्रामा सेंटर भेज दिया है। पुलिस ने इस मामले में शिवकुमार की तहरीर पर लूट का मुकदमा दर्ज कर लिया है।

सरोजनीनगर के मीरानपुर पिनवट गांव निवासी किसान श्रीकिशन 55 पत्नी राजरानी 50 और बेटे बिंदु 25 रिंकू 20 के अलावा बिंदु की पत्नी गीता 22 व बेटी नेहा 17 के साथ रहते हैं। बिंदु के मुताबिक गुरुवार रात उसकी मां राजरानी लघुशंका के लिए कमरे से बाहर निकली तो आंगन में एक बदमाश खड़ा नजर आया। राजरानी ने उसे रिंकू समझकर आवाज दी तो बदमाश ने घर का मु य दरवाजा खोलकर राज रानी को अपनी गिर त में लेते हुए वही पर उसकी पिटाई कर दी। इसी बीच मु य दरवाजे से बदमाश के पांच अन्य साथी भी घर के अंदर दाखिल हो गए। तभी मां की आवाज सुनकर रिंकू भी कमरे से बाहर निकल पड़ा।

लूट के बाद जेवरात समेत नगदी लूट कर भाग निकले

बदमाशों ने उसे दबोच लिया और लोहे की रॉड से उसकी पिटाई शुरू कर दी। उसके चीखने चिल्लाने की आवाज सुनकर श्रीकृष्ण अपने कमरे से बाहर निकले तो बदमाशों ने उसके ऊपर कुल्हाड़ी व लोहे की रॉड से हमला कर दिया। जिससे वह बुरी तरह वहीं पर लहूलुहान होकर गिर गए। इसी दौरान चीख पुकार सुनकर बिंदु पहुंचा तो बदमाशों ने उसके भी सिर व शरीर में कुल्हाड़ी व लोहे की रॉड से हमला बोल दिया। जिससे वह भी लहूलुहान होकर वहीं गिर गया। तभी नींद से जगी विंदू की पत्नी गीता और बिंदु की बहन नेहा ने चीख.पुकार मचा दी। उनका शोर सुनते ही बदमाश मु य दरवाजे से भाग निकले। हालाकि घर के सदस्यों के भिड़ जाने से बदमाश यहां से कुछ नहीं ले जा सके। उधर शोर सुनकर पूरा गांव श्री कृष्ण के घर पर इकट्ठा हो गया। आनन-फानन घटना की सूचना पुलिस को दी गई।

सूचना के बाद भारी पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे सीओ कृष्णा नगर लाल प्रताप शाही ने गंभीर रूप से घायल श्रीकृष्ण व बिंदु को सरोजनीनगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया। जबकि मामूली रूप से चोटिल राज रानी और रिंकू का निजी अस्पताल से इलाज कराया गया है। पुलिस मामले की जांच पड़ताल कर रही है। उसका कहना है कि शुक्रवार शाम तक पीडि़त की ओर से तहरीर नहीं मिली है और तहरीर मिलने पर रिपोर्ट दर्ज कर बदमाशों का पता लगाया जाएगा।

अंडरवियर और बनियान पहने नकाबपोश थे बदमाश

ग्रामीणों की माने तो नुर्दी खेड़ा गांव में हुई घटना के दौरान सभी बदमाश केवल अंडरवियर और बनियान पहने हुए थे। सभी बदमाशों के हाथों में किसी के पास लोहे का रॉड व देसी तमंचा तो किसी के हाथों में कुल्हाड़ी के अलावा अन्य धारदार हथियार थे। ठीक इसी तरह मीरानपुर पिनवट गांव में घटना के दौरान सभी बदमाश अंडरवियर बनियान पहने हुए थे, लेकिन यहां पर बदमाशों ने अपने मुंह पर कपड़ा लपेट रखा था। यहां भी बदमाशों के हाथों में लोहे के रॉड, तमंचे व धार हथियार मौजूद थे। बंथरा के नुर्दीखेड़ा और सरोजनीनगर के मीरानपुर पिनवट गांव की दूरी आपस में करीब आधा किलो मीटर है। दोनों गांव के बीच बबूल का भारी जंगल है। इससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि दोनों जगह बदमाशों की एक ही गैंग ने घटना को अंजाम दिया है।

लूट के बाद जंगल में मिला संदूक

नुर्दी खेड़ा गांव में घटना के बाद लोग काफी दहशत में आ गए और उन्होंने रात में ही बदमाशों को खुद ढूंढना शुरू कर दिया। इसी बीच उन्हें गांव के पास ही जंगल में सजीवन लाल के घर से लूटा गया संदूक पड़ा मिला। लेकिन संदूक से सभी सामान गायब था। बंथरा पुलिस की माने तो बदमाश यहां से पहले संदूक उठा ले जा चुके हैं और दोबारा घटना अंजाम देने पहुंचे तो घर के लोगों की नींद खुल जाने के कारण उन्होंने विरोध शुरू कर दिया। जिसकी वजह से बदमाशों ने उनकी पिटाई कर दी और गांव में शोरगुल हो जाने के कारण वह भाग गए।

सूचना के बावजूद समय पर नहीं पहुंची पुलिस

गांव वालों का आरोप है कि दोनों गांवों में घटना के तुरंत बाद ही ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस को दी, लेकिन पुलिस मौके पर काफी देर बाद पहुंची। जिसकी वजह से बदमाश आराम से घटना अंजाम देकर फरार हो गए। ग्रामीणों को भी संदेश है कि दोनों जगहो पर एक ही गैंग ने घटना को अंजाम दिया है। उनका आरोप है कि अगर सूचना मिलते ही पुलिस तुरंत मौके पर पहुंच कर आसपास कांबिंग करती तो शायद इसके बाद दूसरे गांव में भी घटना न होती।

loading...
Loading...

You may also like

जानकीपुरम गॉर्डन में सर्राफा के घर का ताला तोड़कर लाखों की चोरी

लखनऊ। जानकीपुरम गॉर्डन में चोरों ने एक सर्राफा