विश्वविद्यालय में संचालित तीन वर्षीय एमसीए पाठ्यक्रम अब होगा 2 वर्ष का

एमसीए एडमिशन

लखनऊ। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद ने मास्टर इन कम्प्यूटर एप्लीकेशन (एमसीए) पाठ्यक्रम की अवधि घटा दी है। विश्वविद्यालय में संचालित तीन वर्षीय एमसीए पाठ्यक्रम अब दो वर्ष का होगा। इसे लेकर एआईसीटीई ने सभी विश्वविद्यालयों को निर्देश जारी कर दिए हैं। इसके अलावा एमसीए में लैट्रल एंट्री पर प्रवेश भी बंद कर दिए गए हैं।

बीए गणित-बीकॉम को मौका

एकेटीयू के प्रतिकुलपति प्रो. विनीत कंसल के अनुसार पांच दिन पहले एआईसीटीई के चेयरमैन ने दिल्ली में विश्वविद्यालयों के प्रतिनिधियों के साथ हुई बैठक में यह जानकारी दी है। एआईसीटीई के निर्देश पर अमल करते हुए एकेटीयू ने अपने यहां संचलित तीन वर्षीय एमसीए पाठ्यक्रम को इस सत्र से दो साल का कर दिया है।

एआईसीटीई का मानना है कि छात्रों का एक साल इंटर्नशिप में निकल जाता है। ऐसे में लैट्रल एंट्री से सीधे एमसीए दूसरे वर्ष में दाखिला लेने वाले छात्रों को तैयारी का मौका नहीं मिलता है। एआईसीटीई ने एमसीए कोर्स को दो साल का करने के साथ ही लैट्रल एंट्री को भी बंद कर दिया है। लैट्रल एंट्री से बीसीए, बीएससी इलेक्ट्रानिक्स, बीएससी कम्प्यूटर साइंस व बीएससी गणित से करने वाले छात्रों को दूसरे साल में प्रवेश दिया जाता था।

loading...
Loading...

You may also like

आजम खान को पत्नी और बेटे समेत जेल, बिगड़ी कानून व्यवस्था के कारण रखा जाएगा अन्य जगह

🔊 Listen This News रामपुर। जन्म के दो