ट्रंप का टूरिजम पर बड़ा ऐक्शन, प्रेग्नेंट महिलाओं को अब नहीं मिलेगा वीजा

अमेरिका का वीजा

वाशिंगटन। बच्चे को जन्म से ही अमेरिकी नागरिक बनाने की प्लानिंग करना मां-बाप को भारी पड़ सकता है। पहले ऐसे कई मामले सामने आए थे जिसमें दुनिया में बहुत सारी गर्भवती महिलाएं महज इस कारण अपने बच्चे की डिलीवरी अमेरिका आकर कराती थीं, ताकि उनके बच्चे को अमेरिकी धरती पर जन्म लेने के कारण वहां की नागरिकता मिल जाए। लेकिन अब अमेरिका की सरकार ने इस मामले में कड़े कदम उठाए हैं। अमेरिकी सरकार ने ऐलान कर दिया है कि दूसरे मुल्कों से आने वालीं गर्भवती महिलाओं को टेंपररी विजिटर (बी-1/बी-2) वीजा नहीं दिया जाएगा। अमेरिका में बर्थ टूरिजम पर रोक लगाने के लिए ये पाबंदियां लगाई गई हैं।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि अमेरिकी संविधान के तहत वहां जन्म लेने वाले किसी भी बच्चे को नागरिकता का अधिकार स्वत: ही मिल जाता है। लेकिन नए वीजा नियमों के बाद बच्चे को इस तरह नागरिकता दिलाना संभव नहीं होगा। नई वीजा योजना से जुड़े दो अधिकारियों ने बताया कि नए नियमों के बाद गर्भवती महिला के लिए अमेरिका आने का पर्यटन वीजा हासिल करना बेहद मुश्किल हो जाएगा। नए नियमों के मसौदे के मुताबिक, ऐसी महिलाओं के लिए वीजा हासिल करने की राह में एक अतिरिक्त बाधा जोड़ दी गई है। उन्हें काउंसलर अधिकारी को अमेरिका आने का कोई अन्य वैध कारण बताकर संतुष्ट करना होगा।

दरअसल अमेरिकी प्रशासन आव्रजन के सभी रूपों को प्रतिबंधित कर रहा है, लेकिन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप खासतौर पर जन्मसिद्ध नागरिकता के अधिकार के खिलाफ मुखर रहे हैं। वह इसे बंद करने की धमकी देते रहे हैं। हालांकि विद्वानों और प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि यह इतना आसान नहीं होगा।

इसके तहत ऐसी महिलाएं जो बच्चों को जन्म देने के लिए अमेरिका आना चाहती थीं ताकि उनके बच्चों को अमेरिकी पासपोर्ट मिल जाए, अब नहीं आ पाएंगी। ट्रंप प्रशासन का कहना है कि नए नियमों का संबंध हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा से भी है और इसमें बर्थ टूरिजम के जरिए आपराधिक गतिविधियों पर रोक लगाना भी शामिल है।

नए नियम से प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए टूरिस्ट वीजा पर यात्रा करना बेहद कठिन होगा। कानून के मुताबिक, गर्भवती महिलाओं को वीजा हासिल करने के लिए काउंसलर ऑफिसर को समझाना होगा कि अमेरिका आने के लिए उनके पास कोई और भी वाजिब अहम वजह है। ट्रंप प्रशासन शुरुआत से ही इमीग्रेशन के सभी प्रारूपों पर बंदिश लगा रहा है, खासकर राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने जन्मजात नागरिकता के मुद्दे पर कड़ा रूख अपनाया है।

बता दें कि इमीग्रेशन नियमों के समर्थक ग्रुप सेंटर फॉर इमीग्रेशन स्टडीज का अनुमान है कि 2012 में करीब 36 हजार विदेशी महिलाएं बच्चों को जन्म देने अमेरिका आईं और फिर वापस चली गईं।

loading...
Loading...

You may also like

25 फरवरी 2020 राशिफल: मकर राशि के लोगों को होगा प्रॉपर्टी में बंपर लाभ

🔊 Listen This News मेष राशिफल- मेष राशि