बीजेपी सांसद उमा भारती ने कहा- हम भगवन राम नहीं जो दलितों को पवित्र कर दें

उमा भारतीउमा भारती

भोपाल। एससी-एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के बदलाव के फैसले के बाद नाराज दलित समुदाय को मानने की कोशिशें जारी है। बीजेपी के नेता दलितों के घर जा रहे हैं और उनके साथ खाना खा रहे हैं। वहीं पार्टी की बडी नेता और केंद्रीय मंत्री उमा भारती का बड़ा बयान सामने आया है। उमा भारती ने बीजेपी नेताओं के दलितों को घर जा कर भोजन करने को गलत ठहराया है।

उमा भारती का दलितों के साथ भोजन करने को लेकर बयान

बीजेपी के नेताओं द्वारा दलितों के घर ठहरने और भोजन करने को लेकर केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने बड़ा बयान दिया है उमा भारती कहा है कि हम भगवान राम नहीं हैं जो दलितों के साथ भोजन करके उन्हें पवित्र कर सकें। उन्होंने कहा कि जब दलित हमारे घर आकर साथ बैठकर भोजन करेंगे तो हम पवित्र हो पाएंगे। दलितों को जब मैं अपने घर में अपने हाथों से खाना परोसूंगी तब मेरा घर धन्य हो जाएगा।

दलितों को लुभाने में लगी राजनीतिक पार्टियां

गौरतलब है कि 2 अप्रैल को हुए दलितों के प्रदर्शन के बाद से ही बीजेपी और अन्य पार्टियां भी दलितों को ख़ुश करने में जुटी हुई हैं। जहां विपक्ष बीजेपी को दलित विरोधी बता रहा है, वहीं बीजेपी तरह-तरह से दलितों को अपने पक्ष में लाने की कोशिश कर रही है। 2019 में दलितों के वोट की अहमियत को देखते हुए कोई भी पार्टी इन्हें अपने से दूर नहीं जाने देना चाहती है। उमा ने एक ट्वीट किया जिसमें लिखा था, ‘मैं तो दलित वर्ग के लोगों को अपने घर में, अपने साथ डाइनिंग टेबल पर बिठाकर भोजन करती हूं और मेरे परिवार के सदस्य उन्हें भोजन परोसते हैं।

Loading...
loading...

You may also like

भाजपा संविधान व कानून का रखवाला बनकर काम करे : मायावती

🔊 Listen This News लखनऊ। बसपा (BSP) प्रमुख