उन्नाव गैंगरेप : BJP विधायक का छोटा भाई की बढ़ी मुश्किलें, बनाया गया हत्या का आरोपी

उन्नावउन्नाव

उन्नाव। यूपी के उन्नाव जिले से बांगरमऊ विधान सभा सीट से बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के  भाई को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं इस मामले में बीजेपी विधायक पर भी पुलिस कुछ घन्टों में शिकंजा कसने वाली है। जैसे ही लोवर कोर्ट से 156(3) को लेकर फैसला आएगा। इसके बाद विधायक पर कार्रवाई होगी। इस मामले में विधायक के भाई की मुश्किलें बढ़ गयी है। उसके खिलाफ हत्या के आरोप में केस दर्ज करते हुए धारा 302 लगायी गयी है।

बताया जा रहा है कि महिला के साथ गैंगरेप के मामले में विधायक की भी गिरफ़्तारी हो सकती है। बता दें कि रविवार को एक महिला ने उन्नाव के बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह पर गैंगरेप का आरोप लगाते हुए आत्मदाह करने की कोशिश की थी।

वहीं इस मामले में इसी संबंध में कुलदीप सिंह सेंगर ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि ‘किसी मामले में किसी का नाम आने से कोई इस्तीफा दे देता है क्या?’

पढ़ें:- योगी के विधायक पर रेप का आरोप लगाने वाली युवती के पिता की मौत 

उन्नाव से विधायक और उनका छोटा भाई हैं आरोपी 

बता दें कि रविवार को एक महिला ने सीएम आवास के सामने आत्मदाह की कोशिश की थी। लेकिन उसे ऐसा करने से पुलिस ने रोक लिए महिला ने यूपी के उन्नाव जिले से बांगरमऊ विधान सभा सीट से बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर दुष्कर्म और पुलिस पर एफआईआर दर्ज न करने का आरोप लगाया था  वहीं आत्मदाह की कोशिश करने वाली पीड़ित महिला के जेल में बंद पिता की सोमवार तड़के संदिग्ध स्थितियों में मौत हो गई।

वहीं इस मामले में  मृतक की पत्नी आशा सिंह व अन्य परिजन पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे पीडिता और उसके परिजनों ने विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उनके छोटे भाई अतुल सिंह और एक ब्लाक प्रमुख पर जेल में मारपीट के बीच हत्या कराने का आरोप लगाया। इन सबकी गिरफ्तारी से पहले पोस्टमार्टम कराने से इन्कार भी कर दिया। वहीं इस मामले में पीड़िता के चाचा के साथ भी मारपीट की बात सामने आयी है। इस मामले में पुलिस को पीड़िता के चाचा ने बयान दर्ज कराया है।

पुलिस पर मिलीभगत का आरोप 

इस मामले में पुलिस विभाग पर भी सवाल उठ रहे हैं। वहीं पुलिस हिरासत में पीडिता के पिता की मौत हो जाना कई तरह के सवाल खड़े करता है। बताया जा रहा है कि स्थानीय पुलिस ने पीड़िता पिता और चाचा पर फर्जी केस दर्ज किया था। साथ ही पुलिस विभाग की तरफ से हर तरह से इस केस को प्रभावित किये जाने का आरोप है। इस मामले में उन्नाव एसपी पुष्पांजलि की घोर लापरवाही की बात सामने आयी है। लेकिन उन पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

अखिलेश यादव का बयान

इस मामले ,में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर हमला बोला उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि मुख्यमंत्री आवास पर आत्मदाह की कोशिश करनेवाली दुष्कर्म की पीड़िता के पिता की ‘पुलिस कस्टडी’ में दर्दनाक मृत्यु अत्यंत दुखदायी है। इसकी सर्वोच्च स्तरीय निष्पक्ष जाँच होनी चाहिए। महिलाओं के मान की रक्षा के लिए नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए मुख्यमंत्री को तुरंत इस्तीफ़ा दे देना चाहिए।

अखिलेश ने आगे लिखा कि आज प्रदेश में एक मजबूर महिला इज़्ज़त गँवाकर इंसाफ़ पाने के लिए ख़ुद को जलाकर मारने की कोशिश करते-करते पुलिस कस्टडी में अपने पिता को भी गँवा बैठी है। सरकार को अपने लोगों पर कार्रवाई करने के लिए अब और क्या सबूत चाहिए। प्रदेश की हर बच्ची, महिला, माता-पिता इस घटना से डरे-सहमे हैं।

loading...
Loading...

You may also like

अमृतसर : आयोजकों ने नवजोत कौर के लिए मांगी सुरक्षा, जनता का ख्याल नहीं

अमृतसर। अमृतसर में बड़े रेल हादसे के बाद