उन्नाव गैंगरेप: पीड़िता की हत्या के मामले में 5 के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

उन्नाव गैंगरेप
Please Share This News To Other Peoples....

उन्नाव। यूपी के उन्नाव गैंगरेप केस में एक नया मोड़ आया है। इस मामले में पीड़िता की हत्या को लेकर सीबीआई ने 5 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है। रेप के आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर के भाई अतुल सिंह सेंगर का नाम भी शामिल है। बता दें कि अतुल सेंगर ने पीड़िता के पिता की पिटाई की थी, जिसके बाद उनकी मौत हो गयी थी।

पढ़ें:- उन्नाव गैंगरेप केस : सीबीआई ने थानेदार और दरोगा को किया गिरफ्तार 

उन्नाव गैंगरेप: इन पांच नामजद लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल 

पीड़िता के पिता की पीट-पीटकर हत्या के मामले में सीबीआई ने पांच के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है। जिसमें नामजद किए गए एक आरोपी शैलू को सीबीआई ने क्लीन चिट दी है। गैंगरेप पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में नामजद विनीत, बउआ, सोनू के साथ सुमन सिंह उर्फ शशि प्रताप सिंह और विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल सेंगर के खिलाफ चार्जशीट दाखिल हुई है। बता दें कि सीबीआई की रोशनउद्दौला कोर्ट में विवेचक अनिल कुमार ने चार्जशीट दाखिल की है।

पढ़ें:- उन्नाव गैंगरेप : सुप्रीम कोर्ट ने वकील से पूछा, क्या आपके किसी रिश्तेदार से बलात्कार हुआ है? 

क्या था पूरा मामला

बता दें कि करीब तीन महीने पहले एक महिला ने सीएम आवास के सामने आत्मदाह की कोशिश की थी। लेकिन उसे ऐसा करने से पुलिस ने रोक लिया था। महिला ने यूपी के उन्नाव जिले से बांगरमऊ विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर दुष्कर्म और पुलिस पर एफआईआर दर्ज न करने का आरोप लगाया था। वहीं आत्मदाह की कोशिश करने वाली पीड़ित महिला के जेल में बंद पिता की संदिग्ध स्थितियों में मौत हो गई थी।

वहीं इस मामले में मृतक की पत्नी आशा सिंह व अन्य परिजन पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे पीडिता और उसके परिजनों ने विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उनके छोटे भाई अतुल सिंह और एक ब्लाक प्रमुख पर जेल में मारपीट के बीच हत्या कराने का आरोप लगाया। इन सबकी गिरफ्तारी से पहले पोस्टमार्टम कराने से इन्कार भी कर दिया था। वहीं इस मामले में पीड़िता के चाचा के साथ भी मारपीट की बात सामने आयी थी।

पुलिस पर मिलीभगत का आरोप 

इस मामले में पुलिस विभाग पर भी सवाल उठे थे। वहीं पुलिस हिरासत में पीडिता के पिता की मौत हो जाने को लेकर कई सवाल उठे थे। बताया जा रहा है कि स्थानीय पुलिस ने पीड़िता पिता और चाचा पर फर्जी केस दर्ज किया था। साथ ही पुलिस विभाग की तरफ से हर तरह से इस केस को प्रभावित किये जाने का आरोप लगाया था। इस मामले में तत्कालीन उन्नाव एसपी पुष्पांजलि की घोर लापरवाही की बात सामने आयी थी।

Related posts:

अब कॉरेस्पोन्डेन्स मोड में नहीं चलेगा टेक्निकल कोर्स : सुप्रीम कोर्ट
पेड़ से टकराई कार, दो बारातियों की मौत
नरेन्द्र मोदी अपने संबोधन के दौरान हुए भावुक
रेल मुसाफिरों के लिए बुरी खबर, इस सेवा पर बढेगा खर्च...
राजस्थान लोकसभा उपचुनाव : मांडलगढ़ में कांग्रेस की बड़ी जीत
फिर एक बार करीब आते-आते रह गए सपा-बसपा, अटकलें ख़ारिज
इलाहाबाद विश्वविद्यालय के क्लास रूम में घुसकर छात्र पर चलायी गोली
बोरियों के नीचे दबने के कारण हुई दो मजदूरों की मौत
बच्चों को डायरिया से बचाने के लिए रोटा वायरस वैक्सीन जल्द
दुपट्टे के फंदे से लटकता मिला शव
उत्तर प्रदेश: अभी बारिश के लिए करना होगा कुछ दिन और इंतजार
भारत ने किया ब्रह्मोस मिसाइल का सफल परीक्षण, जानें क्याल हैं खूबियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *