यूपी प्रशासन का आदेश आम्बेडकर की मूर्ति हटाकर लगाएं दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा

आम्बेडकर
Please Share This News To Other Peoples....

आगरा। यूपी के संस्कृति निदेशालय के संविधान के निर्माता भीमराव आम्बेडकर की मूर्ति हटाकर दीनदयाल उपाध्याय की मूर्ति लगाने के आदेश से विवाद खड़ा हो गया है। दरअसल इस आदेश में आगरा जिला प्रशासन से कहा गया है कि जिले के नगर निगम परिसर में संविधान निर्माता डॉक्टर भीमराव आंबेकर की दो मूर्तियों में से एक को हटाकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय की मूर्ति स्थापित की जाए। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ये आदेश पिछले 25 अप्रैल को पास किया गया। इसमें डिप्टी डायरेक्टर अजय कुमार अग्रवाल के हस्ताक्षर भी है। आदेश में आगरा जिला मजिस्ट्रेट और एसएसपी से कहा गया कि मूर्ति स्थापना के बाद कोई विरोध होता है तो प्रशासन कानून व्यवस्था बनाए रखे।

पढ़ें:- बीजेपी सांसद की खातिरदारी में जुटे थे डॉक्टर, दवा न मिलने पर मरीज ने तोड़ा दम 

आम्बेडकर की मूर्ति हटाने को लेकर भाजपा नेता ने सीएम को लिखा पत्र

बता दें कि संस्कृति निदेशालय की तरफ से ये आदेश ऐसे समय में जारी किया गया है। जब पांच बार स्थानीय भाजपा विधायक ने राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ को चिट्ठी लिखकर वहां सामाजिक कार्यकर्ता की मूर्ति स्थापित करने की मांग की है। साथ ही ये भी कहा गया कि एक मूर्ति भारतीय जनसंघ के नेता पं. दीनदयाल उपाध्याय की लगाई जाए। आदेश में आगरा जिला मजिस्ट्रेट और एसएसपी से कहा गया कि मूर्ति स्थापना के बाद कोई विरोध होता है तो प्रशासन कानून व्यवस्था बनाए रखे।

एक अंग्रेजी अखबार की खबर के मुताबिक इस मामले में भाजपा विधायक जगन प्रसाद गर्ग का कहना है कि उनका इरादा किसी का अपमान करना या दलित समुदाय की भावनाओं को चोट पहुंचाना नहीं है। उनका मानना है कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय दलितों अधिकारों के चैंपियन थे और उनकी मूर्ति लगने पर दलित समुदाय गर्व करेगा। गर्ग ने आगे बोलते हुए कहा कि यदि आगरा नगर निगम परिसर में आंबेडकर दो मूर्तियां हैं। इनमें से एक का उद्घाटन पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने किया था जबकि दूसरी मूर्ति पुरानी है, जिसे कहीं और स्थापित किया जा सकता है। पुरानी मूर्ति की जगह वहां पंडित उपाध्याय की मूर्ति स्थापित की जा सकती है।

पढ़ें:- जहरीली शराब कांड : मुख्यमंत्री ने मृतक आश्रितों को 2-2 लाख रूपये की मदद की घोषणा 

दलित विधायकों जताया विरोध

गौरतलब है कि आगरा नगर निगम परिसर से आंबेडकर की मूर्ति हटाए जाने पर दलित पार्षदों ने विरोध जताया है। इस मामले में रतनापुरा से दलित पार्षद धर्मवीर सिंह का कहना है कि उपाध्याय की मूर्ति स्थापित की गई तो दलित समाज इस मुद्दें को सड़कों पर ले जाएगा। अगर उन्हें परिसर में आम्बेडकर की दो मूर्तियों पर एतराज है तो उन्हें पहले ही मामले में अपना विरोध जताना चाहिए था। बसपा के आगरा जिला अध्यक्ष भारतेंदु अरुण ने कहा कि इससे सामाजिक दूरी और बढ़ेगी। नगर निगम को इसे रोकना चाहिए।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *