Main Sliderइलाहाबादउत्तर प्रदेशख़ास खबरराष्ट्रीयशिक्षा

UP Board Exam: नकल प्रवृत्ति पर कड़ी सख्ती, कैमरे समेत लगे ब्राडबैंड और राउटर

प्रयागराज। एशिया की सबसे बड़ी परीक्षा संस्था उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा इसी महीने फरवरी के 18 तारीख से शुरु हो रही है। नकलविहीन, पारदर्शी और निष्पक्ष रुप से परीक्षा सम्पन्न कराने के लिए बोर्ड ने सभी तैयारियां पूरी करने का दावा किया है, लेकिन नकल पर सख्ती की वजह से यूपी बोर्ड के परीक्षार्थियों की तादाद लगातार कम हो रही है।

 56 लाख 7 हजार 118 परीक्षार्थी हो रहे हैं शामिल

योगी सरकार ने प्रदेश में व्यापक स्तर पर तैयारी का दावा किया जा रहा है। यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं में इस बार 56 लाख 7 हजार 118 परीक्षार्थी प्रदेश भर में बनाये गए 7784 परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा देंगे, जबकि पिछली बार प्रदेश भर में 8354 परीक्षा केन्द्र बनाये गए थे। इस बार की परीक्षा में हाईस्कूल में 30 लाख 22 हजार 607 परिक्षार्थी, तो वहीं इंटर में 25 लाख 84 हजार 511 परीक्षार्थी पंजीकृत हुए हैं।

जबकि पिछले वर्ष हाई स्कूल में 31 लाख 92 हजार 587 परीक्षार्थी और इंटर में 26 लाख तीन हजार 169 परीक्षार्थी परीक्षा में बैठे थे। इस तरह से इस साल पिछले साल की तुलना में 1 लाख 88 हजार 638 परीक्षार्थी कम सम्मिलित हो रहे हैं। इस बार हाईस्कूल की परीक्षायें 12 दिन और इंटर की परीक्षायें 15 दिन तक चलेंगी। यूपी बोर्ड की परीक्षायें दो पालियों में आयोजित होंगी।

नकल रोकने के लिए परीक्षा केन्द्रों पर लगाये ब्राडबैंड और राउटर

यूपी बोर्ड की सचिव नीना श्रीवास्तव के मुताबिक यूपी बोर्ड की परीक्षाओं में नकल रोकने के लिए बोर्ड ने इस बार और सख्त कदम उठाए हैं। प्रदेश में 938 संवेदनशील और 395 अतिसंवेदनशील परीक्षा केन्द्र बनाये गए हैं। यूपी बोर्ड ने जहां 2018 की परीक्षा में परीक्षा केन्द्रों पर सीसीटीवी कैमरे लगवाये थे।

शाहीन बाग: गृह मंत्री से मिलने के लिए उनके घर तक पैदल मार्च निकालेंगे प्रदर्शनकारी 

वहीं 2019 की बोर्ड परीक्षा में बोलकर नकल कराने की प्रवृत्ति पर रोक लगाने के लिए सीसीटीवी कैमरों में वॉयस रिकार्डर भी लगवाये गए थे, लेकिन यूपी बोर्ड परीक्षा में सख्ती बढ़ाते हुए अब परीक्षा केन्द्रों को ब्राडबैंड और राउटर से भी जोड़ दिया है। जिससे परीक्षा केन्द्रों की मानीटरिंग भी ऑन लाइन हो सकेगी।

प्रदेश में बनाये गए 7784 परीक्षा केन्द्रों पर एक लाख 90 हजार सीसीटीवी कैमरे लगाये गए हैं। इसके साथ ही यूपी बोर्ड की ओर से पिछले वर्ष की ही तरह सभी 75 जिलों में बार कोडिंग की कापियां भेजी जा रही हैं। वहीं इस बार कुछ जिलों में सिलाई वाली कापियां भी भेजी जा रही हैं, ताकि कापियों के पेज न बदले जा सकें, जबकि कापियों को चार कलर में भी छपवाया गया है।

मेहनत और लगन का कोई विकल्प नहीं- सीएम योगी

यूपी बोर्ड की परीक्षा शुरू होने से पहले योगी आदित्य नाथ ने बच्चों से कहा है कि वह बिना किसी तनाव के मन लगा कर परीक्षा दें। सीबीएसई की परीक्षाएं शुरू होने से पहले मुख्यमंत्री ने शनिवार सुबह ट्वीट कर परीक्षा देने जा रहे बच्चों की हौसला अफजाई की।

उन्होंने कहा- प्यारे विद्यार्थियों, युवा साथियों आज से आप सभी की सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाएं शुरू हो रहीं हैं। बिना किसी तनाव के या दबाव को महसूस किए, एकाग्र होकर एवं मन लगाकर परीक्षा दीजिए। मेहनत और लगन का कोई विकल्प नहीं है। इसका परिणाम सदैव सुखद होता है। आखिरी में मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी शुभकामनाएं उनके साथ हैं।

यूपी बोर्ड ने जारी की टोल फ्री नम्बर

पहली बार जारी किया गया टोल फ्री नम्बरयूपी बोर्ड ने परीक्षा में आ रही गड़बड़ियों की शिकायतों की सुनवाई और समाधान को लेकर पहली बार दो टोल फ्री नम्बर भी जारी किए हैं। यूपी बोर्ड ने टोल फ्री नम्बर 1800-180-5310 और 1800-180-5312 जारी किया है। इन टोल फ्री नम्बरों पर परीक्षार्थियों की समस्यायें सुनने के लिए बोर्ड मुख्यालय में कन्ट्रोल रुम बनाया गया है।

कन्ट्रोल रुम में तैनात किए गए 12 शोध एवं साहित्यिक सहायकों की द्वारा परीक्षार्थियों की हर समस्या का समाधान भी किया जा रहा है। कन्ट्रोल रुम में हिन्दी, अंग्रेजी, संस्कृत, गणित, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, इतिहास, भूगोल, नागरिक शास्त्र, सामाजिक विज्ञान और विज्ञान विषयों के शोध एवं साहित्यिक सहायकों की ड्यूटी लगायी गई है।

सुबह आठ बजे रात आठ बजे तक दो शिफ्टों में बारह घंटे कन्ट्रोल रुम संचालित हो रहा है। यूपी बोर्ड की सचिव के मुताबिक इसका अच्छा रिसपांस भी मिल रहा है। इसके साथ ही शिक्षा मंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने ट्विटर हैंडल भी जारी किया है। जिस पर भी बोर्ड परीक्षाओं से सम्बन्धित अपनी समस्याओं को लेकर परीक्षार्थी अवगत करा सकते हैं।

loading...
Loading...