उत्तर प्रदेश : दरोगा भर्ती 2016 का हाईकोर्ट ने किया रिज़ल्ट रद्द

Loading...

इलाहाबाद। उत्तर प्रदेश में 2016 में निकली दरोगा भर्ती परीक्षा के परिणाम को हाईकोर्ट ने नियम के विरुद्ध कह कर रद्द कर दिया है। यह आदेश न्यायमुर्ति सुनीता अग्रवाल एवं न्यायमूर्ति सुनीत कुमार की खंडपीठ ने वरिष्ठ अधिवक्ता अशोक खरे, शशिनंदन, राधाकांत ओझा व विजय गौतम और अपर महाधिवक्ता मनीष गोयल को सुनने के बाद अतुल कुमार द्विवेदी व कई अन्य की विशेष अपीलों को स्वीकार करते हुए दिया है।

17 जून 2016 को पुलिस उपनिरीक्षक, पीएसी प्लाटून कमांडर, फायर फाइटिंग अफसर के 2707 पदों के लिए की भर्ती विज्ञापित हुई। यह भर्ती यूपी सब इंस्पेक्टर, इंस्पेक्टर सर्विस रूल 2015 के नियम 15 ए, 15बी, 15सी व 15डी के तहत की जानी थी। इसके अनुसार सभी चार स्टेज में न्यूनतम 50 प्रतिशत अंक प्राप्त करना अनिवार्य है।

नार्मलाइजेशन प्रक्रिया में नियमों की अनदेखी कर मनमानी की गई। 28 जून 2017 को नार्मलाइजेशन का नियम लागू किया गया। कहा कि याची चयन प्रक्रिया की प्रत्येक स्टेज तक गए और जब अंतिम परिणाम आया तो वे चयन सूची में थे जबकि उन्होंने न्यूनतम 50 प्रतिशत अंक प्राप्त किए थे। उनसे कहा गया कि पहली स्टेज (लिखित परीक्षा) में वे फेल थे।

यह भी पढ़ें.. मेरठ में ऑपरेशन ऑल आउट में पुलिस ने मार गिराए दो इनामी बदमाश

चयन प्रक्रिया के बाद 2181 अभ्यर्थियों को चयनित किया गया। याचियों की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता विजय गौतम ने बताया कि चयन प्रक्रिया में उत्तर प्रदेश पुलिस उप निरीक्षक, निरीक्षक नियमावली 2015 के नियम 15ए, 15बी, 15सी व 15डी का पालन नहीं किया गया।

यह भी पढ़ें.. दस लाख अनियमित कर्मचारियों को केंद्र सरकार का बड़ा तोहफा, मिलेगी यह सुविधा

Loading...
loading...

You may also like

तिरुपुर में एक शख्स और उसकी पत्नी को कोर्ट ने तीन साल की दी सजा

Loading... 🔊 Listen This News तिरुपुर। तिरुपुर के