प्रवीण तोगड़िया बोले-हिन्दुओ के हित की आवाज को दबाने की कोशिश, एनकाउंटर की साजिश

- in Categorized, ख़ास खबर, राजनीति
प्रवीण तोगड़ियाप्रवीण तोगड़िया

अहमदाबाद। लापता होने के बाद मंगलवार को विहिप नेता प्रवीण तोगड़िया का पता चल पाया है। वह बेहोशी के हालत में पाए गये। जिसके बाद प्रेस कांफ्रेंस कर केन्द्रीय ख़ुफ़िया एजेंसियों पर लगाया गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने देश  की ख़ुफ़िया एजेंसी IB पर गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि उनके हिंदुत्व के हित की बात को दबाने की कोशिश की गयी है। इस दौरान वे रोने लगे। इस मामले में उन्होंने सीधे तौर पर किसी व्यक्ति का नाम नहीं लिया है।

ये भी पढ़ें:-विहिप नेता तोगड़िया को अगर गुजरात-राजस्थान पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया, तो वो.. 

प्रवीण तोगड़िया का प्रेस कांफ्रेंस में बयान

  • कुछ समय से मेरी आवाज को दबाने की कोशिश की जाती रही।
  • राम मंदिर बनाओ, कश्मीर में पंडितों को बसाओ, हिन्दुओं के हित के लिए मैं आवाज उठा रहा हूँ।
  • केद्रीय ख़ुफ़िया एजेंसियों ने मेरी आवाज दबाने की कोशिश की।
  • खुफिया एजेंसियों के लोग मुझे डरा धमका रहे हैं।
  • मैं हिन्दू एकता की कोशिश में लगा हुआ हूं।
  • लेकिन मेरी आवाज दबाने की कोशिश हो रही है।

मेरे खिलाफ एनकाउंटर की साजिश

  • उन्होंने अपने खिलाफ एनकाउंटर की साजिश रची जा रही है।
  • इसके लिए उन्होंने राजनीतिक दबाव की बात कही।
  • तोगड़िया ने कहा कि मेरी आवाज दबाने की कोशिश न किया जाए।
  • वे जब तक रहेंगे तब तक हिन्दू एकता और हित की बात करते रहेंगे।
  • उन्होंने कहा कि मैंने 10 हजार डॉक्टरों को तैयार किया, उन डॉक्टरों को डराने की कोशिश की जा रही है।
  • वे मैं मुंबई में भैयाजी जोशी के साथ कार्यक्रम कर में थे।
  • मैंने पुलिस से ढाई बजे मिलने के लिए कहा था।
  • लेकिन जब वे पूजा कर रहे थे तभी एक व्यक्ति ने उन्हें बताया कि उनके एनकाउंटर की साजिश हो रही है।
  • जब उन्होंने बाहर देखा वहां दो पुलिस वाले खड़े थे।
  • मुझे लगा कि कुछ दुर्घटना हुई जो होगा तो होगा पर पूरे देश में जो परिस्थित खड़ी होगी वो ठीक नहीं होगा।
  • फिर मैं वही कपड़े में पैसा का पॉकेट लेकर निकला था।
  • उतरकर वे ऑटो रिक्शे से उनके एक कार्यकर्ता के साथ निकल गए।

रास्ते में खराब हुई तबियत

  • तोगड़िया ने इस मामले में बात आगे जारी रखी उन्होंने कहा कि मैं राजस्थान के सीएम और गृह मंत्री से संपर्क करवाया।
  • लेकिन उनके तरफ से ऐसी कोई जानकारी से इंकार किया गया।
  • जिसके बाद उन्होंने अपने फोन को बंद कर दिया ताकि कोई उनके फ़ोन को ट्रेस न कर सके।
  • पूछताछ पर पता चला कि वे अरेस्ट वारंट लेकर आए हैं।
  • जिसके बाद राजस्थान में अपने वकील से संपर्क कर हाईकोर्ट में वारंट कैंसल की मांग की।
  • इसके बाद वे जयपुर जाकर कार्यकर्ताओं के साथ कोर्ट जाने की तैयारी में थे।
  • लेकिन रास्ते में उनकी तबियत बिगड़ गयी।
  • उन्होंने कहा कि इसके बाद उन्हें याद नहीं है कि क्या हुआ वो कब कहां बेहोश हुए।
  • उनको ये भी नहीं पता चल कब उन्हें अस्पताल में भारती कराया गया।
  • जब उनकी आँखें खुली तो वह खुद को अस्पातल में पाए।
loading...
Loading...

You may also like

भाजपा का राहुल पर हमला, “अलीबाबा चालीस चोर जो मचाये चौकीदार का शोर”

नई दिल्ली। भ्रष्टाचार को लेकर भाजपा ने सोमवार