वसीम रिजवी को SC से राहत, निचली अदालत ने जारी किया था गैर जमानती वारंट

वसीम रिजवीवसीम रिजवी

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष सैयद वसीम रिजवी को बुधवार को सुप्रीम कोर्ट से थोड़ी राहत मिली। शीर्ष अदालत ने मारपीट के मामले में आरोपी रिजवी को कोर्ट के समक्ष समर्पण करने के लिए और 15 दिन का समय दे दिया। इस दौरान रिजवी के खिलाफ कोई दंडात्मक कार्यवाही नहीं की जाएगी।

ये भी पढ़ें :-राज्यसभा से बाहर हो सकते हैं पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, जानें क्या है पेंच

 न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी और संजीव खन्ना की अवकाशकालीन  पीठ ने कहा कि उसे हाईकोर्ट के आदेश में दखल देने का कोई आधार नजर नहीं आता

यह आदेश न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी और संजीव खन्ना की अवकाशकालीन पीठ ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ दाखिल रिजवी की विशेष अनुमति याचिका का निपटारा करते हुए दिया। हाईकोर्ट ने केस रद करने की मांग पर सुनवाई होने तक निचली अदालत से जारी गैर जमानती वारंट पर रोक लगाने की मांग खारिज कर दी थी और अदालत के समक्ष समर्पण करने के लिए 15 दिन का वक्त दिया था। पीठ ने कहा कि उसे हाईकोर्ट के आदेश में दखल देने का कोई आधार नजर नहीं आता। हालांकि न्यायहित को देखते हुए वह याचिकाकर्ता को अदालत के समक्ष समर्पण करने के लिए 15 दिन का और अतिरिक्त समय देती है।

ये भी पढ़ें :-चुनाव आयोग ने ट्विटर को एग्जिट पोल से जुड़े ट्वीट हटाने के दिए निर्देश 

यह मामला लखनऊ की दरगाह हजरत अब्बास में नई कमेटी को प्रबंधन प्रभार सौंपने के दौरान हुई मारपीट और झगड़े का

यह मामला लखनऊ की दरगाह हजरत अब्बास में नई कमेटी को प्रबंधन प्रभार सौंपने के दौरान हुई मारपीट और झगड़े का है। घटना 2012 की है। रिजवी व अन्य आरोपितों ने हाई कोर्ट में मुकदमा रद करने की याचिका दाखिल कर रखी है। हाई कोर्ट ने मुकदमा रद करने की मांग लंबित होने के कारण निचली अदालत की सुनवाई पर रोक लगा दी थी जो कि लंबे समय तक जारी रही। अभी हाल में हाई कोर्ट ने निचली अदालत की सुनवाई पर लगी रोक हटा दी थी जिसके बाद निचली अदालत ने रिजवी व अन्य के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था।

Loading...
loading...

You may also like

चुनाव परिणाम से पहले सेबी ने शेयर बाजारों की निगरानी व्यवस्था चाक-चौबंद की

🔊 Listen This News नयी दिल्ली।  नियामक सेबी