सहारनपुर के पास मृत मिला अद्भुत जीव, डायनासोर होने के लगाए जा रहे अनुमान

डायनासोर
Please Share This News To Other Peoples....

सहारनपुर। यमुना नदी किनारे बसे गांव झरोली के जंगल में एक अद्भुत जानवर का शव मिला है जो की डायनासोर प्रजाति के बच्चे जैसा दिख रहा है। लेकिन अनुमान चाहे जो भी हो हकीकत इससे अलग है। यह किसी जानवर का शव है जो कहीं से पानी में बहकर आया है। वन विभाग की टीम ने प्रारंभिक जांच के बाद कहा कि यह डायनासोर के बच्चे का शव नहीं है।

ग्रामीणों को मिला अजीब से जानवर का शव

जुरासिक काल होता तो डायनासोर वाली बात को सच माना भी जा सकता था लेकिन आज के समय में इस बात को मानना बेहद मुश्किल होगा। दरअसल, गुरुवार की सुबह सहारनपुर के झरोली निवासी किसान विश्वास का बेटा रजत खेत पर गया था। यहां उसे एक अजीब से जानवर का शव नजर आया। इसकी जानकारी उसने ग्रामीणों को दी।

डायनासोर

ये भी पढे : 3 युवकों को भरी पड़ा ‘किकी चैलेंज’, कोर्ट ने दी कुछ ऐसी अजीब सज़ा 

यमुना के बहाव मेन बेह कर आया शव 

ग्रामीणों की सूचना पर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लिया। खेत मालिक विश्वास का कहना है कि पिछले दिनों यमुना का जल स्तर बढऩे से बाढ़ का पानी क्षेत्र में घुस आया था। अनुमान यही लगाया जा रहा है कि यमुना के बहाव के साथ ही शव यहां पहुंचा है। कुछ ग्रामीणों ने इसे पहाड़ी नेवला बताया है।

शव डायनासोर के बच्चे का बिल्कुल नहीं

वन क्षेत्राधिकारी हरज्ञान सिंह का कहना है कि मृत जानवर की ऊंचाई लगभग तीन इंच तथा लंबाई लगभग 12 इंच है। जिला वन अधिकारी विजय कुमार ने बताया कि पहली नजर में यह शव किसी जानवर के प्री मैच्योर्ड बच्चे का लग रहा है। लेकिन ये डायनासोर के बच्चे का बिल्कुल नहीं है। जांच के लिए शव देहरादून भेजा जा रहा है। डीएम आलोक कुमार पांडेय ने बताया कि शव की जांच के बाद ही कुछ कह पाना संभव होगा।

डायनासोर

जीवित तो हम सबमें किसी ने नहीं देखा लेकिन जीवाश्म अभिलेखों के मुताबिक पक्षियों का प्रादुर्भाव जुरासिक काल के दौरान डायनासोर से ही हुआ था। जीवाश्म विज्ञानी पक्षियों को डायनासोरों के आज तक जीवित वंशज मानते हैं।

डायनासोर शाकाहारी और मांसाहारी दोनों होते थे

हिंदी में डायनासोर शब्द का अनुवाद भीमसरट मिलता है। संस्कृत में इसका मतलब भयानक छिपकली है। दरअसल डायनासोर पशुओं के विविध समूह थे। जीवाश्म विज्ञानी डायनासोर के 500 के करीब वंश और 1000 से भी अधिक प्रजातियों की पहचान कर चुके हैं। इनके हर महाद्वीप पर पाये जाते हैं। डायनासोर शाकाहारी और मांसाहारी दोनों थे। कुछ दो पैर वाले तो कुछ चौपाये थे।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *