लखनऊ विश्वविद्यालय में विद्यार्थी ने क्या सीखा अब इसका भी होगा मूल्यांकन

मूल्यांकनमूल्यांकन
लखनऊ।  लखनऊ विश्वविद्यालय में नंबर किसी भी छात्र या शिक्षक की योग्यता का आधार नहीं होता, छात्र ने क्या सीखा ये मायने रखता है। इसी कॉन्सेप्ट को ध्यान में रखते हुए अब लखनऊ विश्वविद्यालय में ‘लर्निंग आउटकम’ पर भी फोकस किया जाएगा। इसके तहत हर विभाग के छात्रों का मूल्यांकन होगा कि शिक्षक  ने जो पढ़ाया उससे छात्र ने वास्तव में क्या सीखा है। शुक्रवार को एलयू में इंटरनल क्वालिटी अश्योरेंस सेल (आईक्यूएसी) की बैठक हुई जिसमें यह निर्णय लिया गया।

आईक्यूएसी की बैठक में हुआ निर्णय, जल्द ही इस पर होगा सेमिनार

आईक्यूएसी निदेशक प्रो राजीव मनोहर ने बताया कि यूजीसी भी लर्निंग आउटकम पर ध्यान दे रहा है जिसके लिए एक कमिटी भी यूजीसी ने गठित की है। इसलिए विवि पहले से ही अब इसकी तैयारी शुरू कर रहा है ताकि यूजीसी की अनिवार्यता से पहले ही इसे लागू कर दिया जाए। चूंकि अभी इसमें क्या होना है इसका सभी विभागों को पता नहीं है। इसलिए पहले इसके लिए हम एक सेमिनार आयोजित करेंगे। इस सेमिनार में सभी विभागों को बताया जाएगा कि लर्निंग आउटकम को कैसे लागू करना है। इसके बाद इसे विभागों में लागू किया जाएगा। इससे शिक्षा में व्यापक बदलाव आएगा और कक्षाओं की जमीनी हकीकत पता चल सकेगी।
Loading...
loading...

You may also like

ममता बनर्जी ने पार्टी के नाम से हटाया कांग्रेस, अब कहलाएगी तृणमूल

🔊 Listen This News पश्चिम बंगाल। कांग्रेस से