WhatsApp ला रहा Fake न्यूज़ पकड़ने के नए फीचर

- in ख़ास खबर, व्यापार
WhatsAppWhatsApp

मुंबई। पिछले कई दिनों से WhatsApp के जरिये फ़ैल रहे फेक न्यूज़ की घटनाएं सामने आ रही है। अफवाहों के चलते देश के कई हिस्‍सों में भीड़ द्वारा मारे जाने की कई घटनाएं सामने आयी। इन घटनाओं में झारखंड, त्रिपुरा, आंध्र प्रदेश में भी अफवाहों के चलते भीड़ ने कई लोगों की जान ले ली। जानकारी के मुताबिक महज शक के आधार पर चलते एक साल में 29 लोगों की हत्याएं हो चुकी हैं। जिसके कारण अफवाहों और फेक न्यूज़ को मद्देनज़र रखते हुए WhatsApp अपनी ऐप में एक नए फीचर ‘Suspicious Link Detection’ पर काम कर रहा है। बता दें कि इस नए फीचर के ज़रिए ये पता लगाया जा सकेगा कि जो भी लिंक से यह न्यूज़ शेयर की जा रही है, वह वैलिड सोर्स है या नहीं।

WhatsApp ला रहा Fake न्यूज़ पकड़ने के नए फीचर

लेकिन फिलहाल इस फीचर की जांच वॉट्सऐप एंड्रॉयड के बीटा वर्जन 2.18.204 पर ही की जा रही है। WABetaInfo के मुताबिक, ‘Suspicious Link Detection’ फीचर से फेक न्यूज़ पहचानी जाएगी। अगर वॉट्सऐप को किसी भी लिंक पर संदेह होगा तो इस बात की जानकारी वह अपने यूजर्स को देगा। उदाहरण के आधार पर जैसे ही कोई लिंक यूजर को मिलेगा, जो फेक होगा तो उसपर वॉट्सऐप की ओर से रेड कलर के फॉन्ट में suspicious link लिखा नजर आएगा। जिससे यूज़र्स आसानी से जान सकेंगे कि यह लिंक फेक है।

ये भी पढ़ें: लखनऊ : लेखपाल के 4 हजार पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू, इन्हें मिलेगा मौका 

बीटा वर्जन पर दिखाया जायेगा सच

WABetaInfo पर दी गई फोटो पर गौर करें तो इस नए फीचर के तहत अगर फेक बताई गई लिंक को यूज़र खोलने की कोशिश करते हैं तो उन्हें वॉट्सऐप अपनी ओर से सावधान करते हुए मैसेज देगा, जिसमें लिखा होगा “This link contains unusual characters। It may be trying to appear as another site।” इसके साथ ही WhatsApp के जरिये फेक न्यूज़ फैलने को लेकर सरकार ने भी गंभीर चिंता जताई है, जिसके बाद वॉट्सऐप ने कहा है कि वह इस पर स्टडी कराएगी कि भारत में उसके मंच पर अफवाहें आग की तरह तेजी से क्यों फैल रही हैं। गौरतलब है कि व्हाट्सऐप के भारत में 20 करोड़ से ज्यादा मंथली एक्टिव यूजर्स हैं।

loading...
Loading...

You may also like

हादसा, हकीकत या श्राप का साया है,कालभैरव रहस्य 2

लखनऊ । भारत में मिथक और लोक कथाओं