विश्व जनसंख्या दिवस: 2030 तक भारत बन सकता है सबसे बड़ी आबादी वाला देश

विश्व जनसंख्या दिवसविश्व जनसंख्या दिवस

नई दिल्ली। 11 जुलाई को विश्‍व में हर साल ‘जनसंख्‍या दिवस’ मनाया जाता है। इसका मकसद वातावरण और विकास के संदर्भ में जनसंख्या से जुड़े मुद्दों पर जागरुकता फैलाना है। लेकिन बढ़ती आबादी के कारण प्राकृतिक संसाधन घट रहे हैं।  पूरी दुनिया की जनसंख्या अब 763 अरब हो चुकी है जो हर सेकंड बढ़ती जा रही है। सिर्फ हम भारत की बात करें तो अगर यहां जनसंख्या की दर कम करने के लिए जल्दी ही कुछ ठोस कदम नहीं उठाए गए तो 2030 तक भारत विश्व का सबसे बड़ी आबादी वाला देश बन जाएगा।

विश्व जनसंख्या दिवस

इस बार ‘जनसंख्‍या दिवस’ की थीम भी फैमिली प्लानिंग

आपको बता दें की इस बार ‘जनसंख्‍या दिवस’ की थीम भी फैमिली प्लानिंग रखी गई है। आज विश्व जनसंख्या दिवस मनाने के 50 साल हो गए हैं। 50 साल पहले दुनिया की आबादी 500 करोड़ पहुच गई थी।  जिसके बाद जनसंख्या के प्रति जागरुकता बढ़ाने के लिए इस दिन को विश्व जनसंख्या दिवस घोषित कर दिया गया।

ये भी पढ़े : फीस न भरने पर 50 मासूम बच्चियों को स्कूल ने बनाया बंधक 

214 मिलियन महिलओं  की आधुनिक गर्भनिरोधों की जरूरत  पूरी नहीं 

इन दिनों भारत सरकार परिवार नियोजन को लेकर काफी प्रचार कर रही है। परिवार नियोजन से जनसंख्‍या पर तो नियंत्रण होगा ही, साथ ही महिलाओं के स्‍वास्‍थ्‍य और देश की अर्थव्‍यवस्‍था पर भी सकारात्‍मक प्रभाव पड़गा।  यूएनएफपीए ने कहा कि दुनिया के विकासशील देशों में एक अनुमान के अनुसार 214 मिलियन महिलाएं ऐसी हैं, जिनकी आधुनिक गर्भनिरोधों की जरूरत अभी तक पूरी नहीं हो पाई हैं।

विश्व जनसंख्या दिवस

बढ़ती आबादी के कारण बेरोजगारी में इजाफा 

बता दें की भारत की जनसंख्या बढ़ने का मुखिय कारण अशिक्षा है। इसके अलावा अशिक्षा, स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता का अभाव और अंधविश्वास भी जनसंख्या बढ़ने के कारण हैं। जिसकी वजह से भारत में संसाधनों का भी अभाव हो रहा है, भूख और कुपोषण बढ़ रहा है। आपको जानकर हैरानी होगी कि विश्व में बीमारियों का जो बोझ है, उसमें से 20 प्रतिशत केवल भारत का है। बढ़ती आबादी के कारण प्राकृतिक चीजें घट रही हैं, सुविधाओं का अभाव बढ़ता जा रहा है वहीं बेरोजगारी में इजाफा हो रहा है।

loading...

You may also like

राफेल डील पर BJP का पलटवार- UPA के दौरान वाड्रा के लिए रक्षा हितों से किया समझौता

नई दिल्ली। राफेल डील को लेकर भाजपा और