तिहाड़ में यासीन मलिक और बिट्टा जी रहे हैं नरक की जिंदगी

तिहाड़ में यासीन मलिक और बिट्टातिहाड़ में यासीन मलिक और बिट्टा
Loading...

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में जहर घोलने का काम करने वाले अलगाववादी नेता यासीन मलिक और फारुख अहमद डार उर्फ बिट्टा कराटे इन दिनों दिल्ली के तिहाड़ जेल में नरक की जिंदगी जी रहे हैं। दोनों दोस्तों की आज तिहाड़ की सलाखों में हालत खराब है। दोनों को केंद्र की मोदी सरकार ने गैरकानूनी गतिविधियों में लिप्त होने के कारण दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद कर दिया है। जहां दोनों दोस्त नारकीय जीवन जीने को मजबूर हैं। दोनों दोस्त एक ही जेल में रहते हुए एक-दूसरे से मिल भी नहीं पा रहे हैं।

आतंकी फंडिंग मामला : पूर्व कश्मीरी विधायक राशिद इंजीनियर हिरासत में 

गौरतलब है कि मोदी-शाह द्वारा जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने के बाद केंद्र सरकार ने वहां के बहुत सारे अलगाववादी नेताओं को दिल्ली व हरियाणा की जेल में शिफ्ट कर दिया है। ताकि घाटी में अमन-चैन स्थापित हो सके। इससे पहले जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को हटाने के बाद 400 अलगाववादियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इन लोगों को हरियाणा के चार जेलों में स्थानांतरित किया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक, फरीदाबाद जेल में 200, करनाल जेल में 80, झज्जर जेल में 70 और यमुनानगर जेल में 50 कैदियों को शिफ्ट किया जा रहा है। करनाल जेल में पहले ही 61 कैदी भेजे जा चुके हैं।

इससे पहले जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 ख़त्म किए जाने के फ़ैसले के बाद सरकार ने एक और बड़ी कार्रवाई की थी। कश्मीर की विभिन्न जेलों में क़ैद 70 चरमपंथियों-अलगाववादियों को आगरा केंद्रीय जेल भेजा गया था। इन सभी को वायुसेना के एक विशेष विमान से आगरा ले जाया गया। सुरक्षा अधिकारियों ने यह जानकारी देते हुए बताया कि इस समूह में शामिल अलगाववादी पथराव संबंधी घटनाओं में शामिल रहे हैं और उनका इतिहास गड़बड़ी पैदा करने का रहा है। उन्होंने साथ ही बताया कि वे कश्मीर घाटी में अलगाववादी समूहों के कथित सक्रिय सदस्य रहे हैं।

Loading...
loading...

You may also like

अभिनेता रजनीकांत ने कहा- तमिलनाडु किसी दक्षिण राज्य में जबरन हिंदी या कोई अन्य भाषा नहीं थोपा जाना है गलत

Loading... 🔊 Listen This News 14 सितंबर को