यूपी के स्कूलों में अब योग अनिवार्य, इसी सत्र से लागू

योगयोग

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के स्कूलों में बच्चों को मानसिक रूप से स्वस्थ्य बनाने के साथ शारीरिक स्वास्थ्य मजबूत करने के लिए योग को अनिवार्य कर दिया गया है ।  इस फैसले को जहां राष्ट्रवादियों ने एक महान निर्णय बताया है। तो वही कई लोगों ने इसका विरोध किया है।

सरकारी स्कूलों में 9वीं कक्षा से लेकर 12वीं तक योग की शिक्षा अनिवार्य

इस बात की जानकारी उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने मीडिया से बातचीत करते हुए दी। बतातें चलें कि योगी आदित्यनाथ ने सरकार के तरफ से संचालित यूपी के सभी सरकारी स्कूलों में 9वीं कक्षा से लेकर 12वीं तक योग की शिक्षा अनिवार्य कर दिया  है।  इसे शारीरिक शिक्षा का हिस्सा बनाया गया है।  उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि इसे शारीरिक शिक्षा का हिस्सा बनाया गया है और इसी सत्र से इसे लागू किया जा रहा है।  इससे छात्रों की शारीरिक और मानसिक मजबूती बढ़ाने में मदद मिलेगी।  बेसिक शिक्षा के छात्र भी योग सीखना चाहते हैं तो उनका स्वागत है।

ये भी पढ़ें :-सिद्धार्थ विश्वविद्यालय में अंर्तर्राष्ट्रीय बौद्ध अध्ययन केंद्र स्थापित करने को मिली हरी झण्डी

राजनीतिक कदम के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए: उपमुख्यमंत्री

प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा के मुताबिक थ्योरी की परीक्षा भी ली जाएगी, जिसमें योग से संबंधित सवाल पूछे जाएंगे।  शर्मा ने जोर देकर कहा कि इसे राजनीतिक कदम के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए, इससे छात्रों को लाभ होने जा रहा है।  हम लड़कियों को शारीरिक तौर पर मजबूत बनाने के लिए उन्हें जूडो और ताइक्वांडो भी सिखाएंगे।  इसको किसी धर्म विशेष से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए।

loading...
Loading...

You may also like

दशहरे की सुगात: यूपी के 850 किसानों का अमिताभ बच्चन चुकाएंगे कर्ज

मुंबई। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने दशहरे