योहान ब्लेक- हमवतन बोल्ट की छत्रछाया से निकल कर कीर्तिमान स्थापित होना चाहिए

"योहान ब्लेक
Loading...

मुंबई। पूर्व फर्राटा विश्व चैंपियन जमैका के योहान ब्लेक दुनिया के महानतम फर्राटा ऐथलीट माने जाने वाले हमवतन उसेन बोल्ट की छत्रछाया से निकल कर नए व्यक्तिगत कीर्तिमान स्थापित करना चाहते हैं। अगले साल जापान की राजधानी में होने वाले ओलिंपिक खेलों में बोल्ट नहीं होंगे क्योंकि वो संन्यास ले चुके हैं। ऐसे में यह ब्लेक के लिए मौका है, इसी कारण ब्लेक ने इस बार ओलिंपिक में तीन स्वर्ण पदक जीतने का लक्ष्य रखा है। ब्लेक ने तो यहां तक कह दिया कि वह ‘गलत समय पर पैदा हुए’ लेकिन अब वह अपनी अलग पहचान कायम करना चाहते हैं।

बोल्ट के साथ लगभग एक दशक से ज्यादा समय तक दौड़ने वाले ब्लेक ने 2011 में दाएगू वर्ल्ड चैंपियनशिप में 100 मीटर में स्वर्ण पदक जीता था। वहां बोल्ट भी थे लेकिन वह फाइनल में डिसक्वॉलिफाइ हो गए थे। इसके अलावा ब्लेक ने 2012 और 2018 में जमैका राष्ट्रीय चैंपियनशिप (ओलिंपिक क्वॉलिफायर) में बोल्ट को 200 मीटर में दो बार हरा चुके हैं। ब्लेक आज की तारीख में 100 तथा 200 मीटर में दूसरे तीव्रतम धावक हैं।

रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज को प्रोमोट करने भारत आए ब्लेक ने सोमवार को यहां कहा, ‘मैं इस सीजन से सकारात्मकता लेकर जा रहा हूं। मैं अच्छी लय में हूं और अभ्यास में अच्छा महसूस कर रहा हूं। यह मेरा अंतिम ओलिंपिक होगा और मैं इसमें अपना सबकुछ झोंक देना चाहता हूं। मैं तीन स्वर्ण पदक चाहता हूं। मैं अपने लिए नए कीर्तिमान स्थापित करना चाहता हूं। मेरे लिए बोल्ट युग की समाप्ति के बाद अपने तथा अपने देश के लिए कुछ हासिल करने का मौका है।’

4X100 मीटर रिले में दो बार के ओलिंपिक विजेता ब्लेक के नाम 100 और 200 मीटर में ओलिंपिक स्वर्ण पदक नहीं है और अब जब उनके रास्ते से बोल्ट हट गए हैं तो यह धावक अपने गले में इन दो स्वर्ण पदकों को डालना चाहते हैं। उन्हें हालांकि चुनौती भी मिलेगी जिसके लिए वे तैयार हैं। तोक्यो में मिलने वाली चुनौती को लेकर 29 साल के इस धावक ने कहा, ‘क्रिस्टन कौलमैन, आंद्रे दे ग्रासे, इत्यादि यह सभी अच्छे हैं मुझे इन सभी के मुकाबला करना होगा होगा। मेरा शरीर अच्छा है, मेरे अंदर कुछ और साल हैं। मैं तैयार हूं क्योंकि मैं अपने शरीर का अच्छे से ख्याल रखता हूं।’

बोल्ट के रहते ब्लेक के हाथों से कई जीतें फिसल गईं। इसका उन्हें थोड़ा अफसोस भी है, ‘अगर आप बोल्ट को हटा दें तो मैं सबसे तेज धावक हूं। मुझे लगता है कि मैं गलत समय पर पैदा हुआ, लेकिन फिर भी मैं बहुत कुछ हासिल कर सका। वो उसेन का समय था इसमें कोई शक नहीं है। हमने उनके सामने प्रतिस्पर्धा की है। लंदन में मुझे जीतना चाहिए था लेकिन जीत नहीं पाए।’

ब्लेक ने बेशक इस बात पर अफसोस जताया कि बोल्ट के रहते वो पीछे रह गए लेकिन वो इस बात को मानने से नहीं चूके कि बोल्ट ने जमैका के ऐथलेटिक्स को नए आयाम दिए और उन्होंने अपनी निजी जिंदगी में बोल्ट से काफी कुछ सीखा।

उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं लगाता कि जमैका के खिलाड़ी इस समय जितने प्रेरित रहते हैं उतने पहले रहते थे। उसेन बोल्ट जमैका और विश्व भर के ऐथलेटिक्स में अंतर लेकर आए। मैं उस श्रेणी में आता हूं। आप इसकी शुरुआत असाफा से कर सकते हैं। अभी मैं हूं, जमैका में अभी मेरे जैसा कोई नहीं है लेकिन मेर बाद कोई और होगा।’

ब्लेक ने साथ ही भारतीय धावकों, खासकर हिमा दास की तारीफ की है और कहा है कि वह तोक्यो ओलिंपिक के बाद भारत में युवा ऐथलीटों को तैयार करेंगे। उन्होंने कहा, ‘हिमा दास से मैं राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान ऑस्ट्रेलिया में मिला था। मैंने उनसे बात की थी। वह शानदार खिलाड़ी हैं और अच्छा कर रही हैं। मुझे उम्मीद है कि वह मजबूती से वापसी करेंगी। मुझे लगता है कि भारतीय खिलाड़ियों को अपने आप में विश्वास रखना चाहिए और दिन-रात कड़ी मेहनत करनी चाहिए। मुझे भी शीर्ष स्तर पर बने रहने के लिए दिन-रात मेहनत करनी होती है। उन्हें भी करनी होगी।’

ओलिंपिक के बाद भारत में अपने कार्यक्रम के बारे में इस धावक ने कहा, ‘मैं सिर्फ मुंबई का ही लक्ष्य लेकर नहीं चल रहा हूं। मैं दिल्ली, कोलकाता, बेंगलुरु भी जाऊंगा। हम मुंबई के अलावा बाकी जगह भी जाएंगे और भारत के युवाओं को चुनेंगे और उन्हें प्रशिक्षण देंगे। मैं ओलिंपिक के दो सप्ताह अपनी टीम के साथ आऊंगा और यहां सबसे तेज धावक निकालूंगा।’ ऐथलेटिक्स के अलावा ब्लेक को क्रिकेट से प्यार है। वह एक समय वेस्ट इंडीज के लिए खेलना चाहते थे।

किंग्सटन क्रिकेट क्लब के लिए खेलते हुए ब्लेक ने एक बार गेंदबाजी करते हुए 10 रन देकर 4 विकेट भी लिए थे। 16 अगस्त, 2012 को ब्लेक ने लॉर्ड्स क्रिकेट मैदान पर इंग्लैंड और साउथ अफ्रीका के साथ हुए टेस्ट मैच से पहले मैच शुरू करने की औपचारिक घंटी बजाए थी। वह ऐसा करने वाले पहले गैर-पेशेवर क्रिकेट खिलाड़ी बने थे। ब्लेक, विराट कोहली की कप्तानी वाली आईपीएल टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB)के फैन हैं और रॉयल चैलेंजर्स के अलावा यॉर्कशायर क्रिकेट क्लब के लिए खेलने की इच्छा रखते हैं।

Loading...
loading...

You may also like

नागरिकता कानून : हिंसा स्वीकार नहीं, प्रदर्शन शांतिपूर्ण होना चाहिए : केजरीवाल

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्ली। नागरिकता