Tech/Gadgetsख़ास खबरव्यापार

लॉकडाउन के चलते लगे झटके से उबरने के लिए ऑटो सेक्टर ने की धमाकेदार वापसी की योजना

नई दिल्ली| कोरोना महामारी और लॉकडाउन के चलते लगे झटके से उबरने के लिए वाहन कंपनियों ने धमाकेदार वापसी की योजना बनाई है। कंपनियों ने आगामी त्योहारी सीजन को देखते हुए सितंबर में 6.6 लाख से 11 लाख रुपये कीमत वाली दमदार फीचर्स से लैस कई कॉम्पैक्ट एसयूवी उतारने जा रही हैं।

नए श्रम कानूनों में प्रभावी रूप से देश के ‘कफाला रोजगार प्रणाली’ को किया खत्म

वाहन विशेषज्ञों का कहना है कि सोशल डिस्टेंसिंग के चलते नई गाड़ी खरीदने वालों की संख्या बीते दो महीने में तेजी से बढ़ी है। वहीं, इन दिनों भारतीय बाजार में फुल साइज एसयूवी के बजाय सब-4-मीटर कॉम्पैक्ट एसयूवी की मांग तेजी से बढ़ रही है। इसी को ध्यान में रखते हुए वाहन निर्माता कंपनियां भी इन सेगमेंट में अपने वाहनों को लॉन्च कर रही हैं। इस त्योहारी सीजन में किया मोटर्स इंडिया, निसान और टोयोटा अपनी कॉम्पैक्ट एसयूवी लॉन्च करने जा रही है।

त्योहारी सीजन में बिक्री बढ़ने की उम्मीद से कई दोपहिया वाहन बनाने वाली कंपनी भी नए मॉडल लॉन्च कर रही हैं। हीरो, होंडा, बजाज, रॉयल एनफील्ड समेत कई कंपनियों नई बाइक उतारने जा रही है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने हाल ही में संकेत दिया था कि दोपहिया वाहन पर 28 फीसदी की जीएसटी दर में कमी की जा सकती है। ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि अगली जीएसटी परिषद की बैठक में दोपहिया पर जीएसटी की दर घटेगी।

विशेषज्ञों का कहना है कि केंद्र सरकार द्वारा दोपहिया पर जीएसटी दर 28 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत करने से बाइक की कीमत 10,000 रुपये तक कम हो जाएगी। इससे दोपहिया वाहनों की बिक्री बढ़ाने में मदद मिलेगी।

निर्मला सीतारमण 3 सितंबर को करेंगी बैंक प्रमुखों के साथ बैठक

सोशल डिस्टेंसिंग और सार्वजनिक परिवहन की सीमित उपलब्धता ने वाहनों की बिक्री बढ़ाने का काम किया। इसमें सबसे अधिक मांग एंट्री लेवल मॉडल गाड़ियों की है। इसकी बिक्री में करीब 40 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। हीरो मोटोकॉर्प और मारुति सुजुकी के पास कम कीमत वाले उत्पादों (प्रवेश स्तर) की व्यापक उपस्थिति और बड़ी हिस्सेदारी है। इसलिए इन दोनों कंपनियों की बिक्री सबसे बढ़ने की उम्मीद है।

loading...
Tags