Main Sliderक्राइमपंजाबराष्ट्रीय

SI ने सरकारी कार्बाइन से दूसरे SI पर की ताबड़तोड़ फायरिंग

मोगा। जिला सचिवालय में एसएसपी दफ्तर के पास खजाना दफ्तर गार्द पर तैनात दो थानेदारों में मामूली तत्कार बाद एक थानेदार ने वीरवार रात सरकारी कारबाईन (राइफल) से दूसरे थानेदार पर ताबड़तोड़ गोलीबारी शुरू कर दी। इस मौके पुलिस कर्मियों ने फर्श पर लेट कर जान बचाई।

गोलीबारी की आवाज से यहां दफ्तरों में तैनात चौकीदार भी सहम गए। डीएसपी सिटी बरजिंदर सिंह भुल्लर ने कहा कि घटना के बाद आरोपी एएसआई सुखराज सिंह सरकारी कारबाईन छोड़ कर फरार हो गया था। सिटी पुलिस ने आरोपी थानेदार के खिलाफ जानलेवा हमले एवं आम्र्स एक्ट तहत केस दर्ज करके उसको गिरफ्तार कर लिया गया है।

मनीष सिसोदिया ने दिल्ली में होटल और बाजार खोलने के फैसले पर लिखी अमित शाह को चिट्ठी

आरोपी एएसआई से पूछताछ और कोरोना टेस्ट के लिए अदालत ने 4 दिन का पुलिस रिमांड दिया है। दूसरी तरफ आरोपी एएसआई सुखराज सिंह ने कहा कि वह अपनी गार्द ड्यूटी के लिए कारबाईन चेक करने लगा तो अचानक गोलियां चल गईं। उसने गार्द इंचार्ज के साथ किसी तकरारबाजी से इंकार करते कहा कि उसने किसी मंद भावना से गोलियां नहीं चलाईं।

विवरण अनुसार एएसआई (लोकल रैंक) किरपाल सिंंंह स्थानीय खजाना गार्द, डीपीओ मोगा का इंचार्ज है। उसकी देर शाम को वहीं तैनात एएसआई(लोकल रैंक) सुखराज सिंह से किसी बात से तत्कार हो गई। गार्द इंचार्ज किरपाल सिंह ने थाना सिटी पुलिस को दिए बयान में कहा कि एएसआई (लोकल रैंक) सुखराज सिंह उसके साथ खजाना गार्द पर ड्यूटी करता है।

जयाप्रदा के गॉडफादर अमर सिंह का इस एक्ट्रेस के साथ हुआ था पंगा, वायरल आडियो ने उड़ा दिए थे सबके होश

वक्त करीब 07:15 बजे शाम उसकी एएसआई सुखराज सिंह से मामूली तकरार हो गई. जिससे तैश में आकर सुखराज सिंह ने अपनी दस्ती कारबाईन (राइफल) से उसकी तरफ सीधे फायर करने शुरू कर दिए। उसने और अन्य मुलाजिमों ने धरती पर लेट कर अपनी जान बचाई। जांच अधिकारी मलकीत सिंह ने बताया कि आरोपी एएसआई सुखराज सिंह के खिलाफ आइपीसी की धारा 307 और 25/54/59 आम्र्स एक्ट तहत केस दर्ज करके उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।

उन्होंने बताया कि आरोपी ने तकरीबन 7/8 राउंड गोलियां चलाईं। यहां बताने योग्य है कि साल 2007 में वह एक राजनीतिक नेता का सुरक्षा गार्ड था तो उसके पास से भेदभरी हालत में सरकारी कारबाईन छीन ली गई थी जिसका आज तक सुराग नहीं लगा। पुलिस सूत्र बताते हैं कि सुखराज सिंह तनाव में रहता है और उसके हाथ सरकारी हथियार न देने के बावजूद भी उसको सरकारी हथियार दिया गया।

loading...
Loading...
Tags