Main SliderTech/Gadgetsख़ास खबरराष्ट्रीयव्यापार

केंद्र सरकार ने लॉन्च किया एक खास ऐप, सोने की गुणवत्ता को लेकर आपके सभी शक हो जाएंगे दूर

नई दिल्ली। सोना खरीदते समय हॉलमार्क होने के बावजूद क्या आपके मन में भी उसकी गुणवत्ता को लेकर सवाल आते है। यदि ऐसा है तो आपके लिए एक अच्छी खबर है। केंद्र सरकार ने एक खास ऐप लॉन्च किया है। इस ऐप के जरिए आप पता कर सकते हैं कि गोल्ड की क्वालिटी क्या है और ​ये कितना खरा है।

उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने एक मोबाइल ऐप BIS-Care लॉन्च किया जिसका उपयोग उपभोक्ता, आईएसआई और हॉलमार्क गुणवत्ता प्रमाणित उत्पादों की प्रामाणिकता की जांच के लिए कर सकते हैं। इसे किसी भी एंडॉयड फोन से ऑपरेट किया जा सकता है।

जानें रक्षाबंधनका शुभ मुहूर्त, राखी मंत्र एवं महत्व

उन्होंने साथ ही भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) के तीन पोर्टल भी लॉन्च किए। बीआईएस देश में मानक निर्धारित करने वाला राष्ट्रीयमानक निकाय है। अब तक, इसने 358 उत्पादों के लिए 20,866 मानक और अनिवार्य मानक निर्धारित किए हैं। आईएसआई मार्क 1955 से भारत में औद्योगिक उत्पादों के लिए एक मानक-अनुपालन का चिह्न है। हॉलमार्क सोने के आभूषणों के लिए गुणवत्ता प्रमाणन है।

कनाडा में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 लाख के पार, मृतकों की संख्या 8890

पासवान ने कहा कि सरकार ने उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा के लिए कई कदम उठाए हैं। बीआईएस-केयर मोबाइल ऐप पर, उपभोक्ता आईएसआई और हॉलमार्क गुणवत्ता प्रमाणित उत्पादों की प्रामाणिकता की जांच कर सकते हैं और शिकायतों को भी दर्ज करा सकते हैं। हिंदी और अंग्रेजी में काम करने वाले इस ऐप को, किसी भी एंड्रॉयड फोन पर संचालित किया जा सकता है और इसे गुगल प्ले स्टोर से मुफ्त डाउनलोड किया जा सकता है। पासवान ने कहा कि बीआईएस ‘कंज्यूमर एंगेजमेंट’ पर एक पोर्टल विकसित कर रहा है, जो उपभोक्ता समूहों के ऑनलाइन पंजीकरण, प्रस्तावों को जमा कराने और उसके अनुमोदन और शिकायत प्रबंधन की सुविधा प्रदान करेगा।

उन्होंने मानकों को अनिवार्य बनाने के लिए गुणवत्ता नियंत्रण आदेशों के निर्माण में बीआईएस की भूमिका को रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि बीआईएस ने 368 उत्पादों के लिए क्यूसीओ जारी करने में मदद करने के लिए विभिन्न मंत्रालयों और विभागों के साथ सक्रिय रूप से सहयोग किया है। उन्होंने बताया कि 239 उत्पादों के लिए क्यूसीओ तैयार करने पर काम चल रहा है। उन्होंने कहा, ‘मानकों के अनिवार्य होने के बाद, घरेलू और विदेशी, दोनों ही निर्माताओं को उनका अनुपालन करना होगा।

loading...
Loading...
Tags