Main Sliderअयोध्याउत्तर प्रदेशख़ास खबरधर्मनई दिल्लीबिहारराजनीतिराष्ट्रीय

चिराग पासवान बोले- मैं माता शबरी का वंशज, राम मंदिर निर्माण पर कही बड़ी बात

नई दिल्ली। अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन के अब सिर्फ 3 दिन रह गए हैं। तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं। 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए भूमि पूजन करने वाले हैं, पूरे देश को इस पल का बेसब्री से इंतजार है।

एनडीए की सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने मंदिर निर्माण के फैसले का स्वागत करते हुए खुद को शबरी का वंशज बताया है। चिराग ने कहा कि मैं माता शबरी का वंशज हूं।

शासन का निर्देश – 27 शिक्षकों का विवरण मांगा उच्च शिक्षा निदेशालय

उन्होंने कहा कि भगवान राम का मंदिर मेरे जीवनकाल में बनाना मेरा सौभाग्य है। मंदिर निर्माण न सिर्फ मानव बल्कि समस्त जीव-जंतु, पशु-पक्षी के लिए खुशी और आत्मसंतुष्टि की बात है। चिराग ने कहा कि माता शबरी की भक्ति व प्रेम भाव का असर था कि बिना संकोच के भगवान राम ने प्रेम से उनके झूठे बेर खाए।

उन्होंने कहा कि वंचित वर्ग से आने के बावजूद भगवान राम के मन में माता शबरी के प्रति तनिक भी भेदभाव की भावना नहीं थी। मंदिर निर्माण के साथ-साथ भगवान राम के इन विचारों को अपनाकर एसे समाज का भी निर्माण करना होगा जहां किसी प्रकार का भेदभाव न हो।

नेतरहाट आवासीय विद्यालय में छठी क्लास में नामांकन की आवेदन प्रक्रिया हुई शुरू

तब तक रामराज्य संभव नहीं है। चिराग ने कहा कि देश में कई जगह आज भी हमें देखने को मिलता है कि दलित समुदाय के व्यक्ति को मंदिर जाने से रोका जाता है। आधुनिक भारत और 21 वीं सदी में इस तरह की घटना पर चिराग पासवान ने अफसोस जताते हुए कहा कि आज भी दलित युवक को अपनी शादी में घोड़ी पर चढ़ने से रोका जाता है। लिहाजा, इस भेद भाव को मिटाए बिना राम राज्य संभव नहीं हो सकता।

सिद्धार्थ शुक्ला ने नेहा शर्मा की कर दी तारीफ, तो शहनाज गिल ने दिया यह रिएक्शन

उन्होंने कहा कि हमारा विश्वास है कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के साथ ही भगवान राम की सोच जनता तक जाएगी। एक ऐसा समाज बनेगा जहां किसी के साथ भेद-भाव न हो। राम राज्य की परिकल्पना ऐसी होनी चाहिए जहां, न अमीरी –ग़रीबी, न हिंदू – मुस्लिम और न ही जाति के आधार पर भेदभाव हो।

loading...
Loading...
Tags