Main Sliderउत्तर प्रदेशख़ास खबरलखनऊस्वास्थ्य

कोरोना महामारी पर नियंत्रण के लिए प्रोएक्टिव होकर काम करना जरूरी है : योगी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वैश्विक महामारी कोविड-19 पर प्रभावी नियंत्रण के लिये प्रोएक्टिव होकर कार्य करने के निर्देश देते हुए कहा कि इन्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर को और अधिक मजबूत करते हुए मरीजों को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं सुलभ कराई जाएं।

अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने शनिवार को यहां बताया कि मुख्यमंत्री ने कोविड-19 पर प्रभावी नियन्त्रण के लिए प्रोएक्टिव होकर कार्य करने पर बल दिया है। उन्होंने कहा है कि इन्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर को और अधिक सुदृढ़ करते हुए मरीजों को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं सुलभ कराई जाएं। उन्होंने कहा है कि सभी चिकित्सा संसाधनों की पर्याप्त संख्या में व्यवस्था बनाए रखी जाए। आवश्यकतानुसार अतिरिक्त वेंटिलेटर्स का प्रबन्ध किया जाए। पोर्टेबल वेंटिलेटर्स की भी व्यवस्था की जाए।

उन्होंने कहा कि बी0आर0डी0 मेडिकल काॅलेज, गोरखपुर तथा झांसी मेडिकल काॅलेज में तत्काल अतिरिक्त वेंटिलेटर्स की व्यवस्था की जाय। उन्होंने कोविड चिकित्सालयों में बेड की संख्या को बढ़ाने के निर्देश दिए गए है।

पटना के डीएम कुमार रवि समेत कलेक्ट्रेट के 7 अधिकारी कोरोना पॉजिटिव मिले

श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने प्रतिदिन एक लाख से अधिक कोविड-19 के टेस्ट कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि यह टेस्ट आर0टी0पी0सी0आर0, ट्रूनैट मशीन तथा रैपिड एन्टीजन विधि से किए जाएं। एन्टीजन टेस्ट की संख्या को बढ़ाए जाने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि रैपिड एन्टीजन टेस्ट किट की सुचारु उपलब्धता प्रत्येक जिले में रहनी चाहिए।

उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश टेस्टिंग में देश में अग्रणी स्थान पर पहुंच गया है। मरीजों को सुविधाएं सुलभ कराने के लिए पूरी संवेदनशीलता बरतते हुए कार्य किया जाए, जिससे प्रत्येक जरूरतमन्द को बेड, वेंटिलेटर, ऑक्सीजन आदि उपलब्ध हो सके। उन्होंने कहा है कि होम आइसोलेशन के मरीजों से निरन्तर संवाद बनाकर उनकी स्थिति का प्रभावी अनुश्रवण किया जाए। उन्होंने बायो-मेडिकल वेस्ट को निर्धारित मानकों के अनुरूप निस्तारित करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने बताया कि आईटीपीसीआर टेस्ट के तहत नोएडा स्थित लैब में कल से टेस्ट प्रारम्भ हो जायेगा।

श्री अवस्थी ने बताया कि श्री योगी ने कहा है कि चिकित्सा कर्मियों को मेडिकल संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए सभी प्रबन्ध किए जाएं। मेडिकल स्टाफ के लिए पर्याप्त संख्या में पी0पी0ई0 किट, मास्क, ग्लव्स तथा सेनेटाइजर आदि की निरन्तर उपलब्धता सुनिश्चित की जाए।

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने गोरखपुर के बाल रोग चिकित्सा संस्थान को आगामी 15 अगस्त तक प्रत्येक दशा में पूर्ण कराने के निर्देश दिये है। उन्होंने कहा कि इस सम्बन्ध में आवश्यकतानुसार अधिक टीमें लगाकर राउण्ड द क्लाॅक कार्य किया जाए।

श्री अवस्थरी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि खाद्यान्न वितरण की प्रभावी व्यवस्था निरन्तर क्रियाशील रखी जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि खाद्यान्न वितरण का कार्य पूरी पारदर्शिता के साथ सम्पन्न हो। गो आश्रय स्थलों से जनप्रतिनिधियों सहित अन्य समाजसेवियों को भी जोडे़ जाने पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि गो आश्रय स्थलों की व्यवस्था को बेहतर बनाए रखने के लिए निरन्तर प्रयास किए जाएं।

loading...
Loading...
Tags